scorecardresearch
 
सेहत

133 किलो था वजन, IPS ने नौ महीने में घटाया 43 किलो वजन, वायरल हुईं तस्वीरें

weight loss journey
  • 1/7

आज हम आपको एक ऐसे IPS अफ़सर के बारे में बताने वाले हैं जिनकी वेट लॉस की जर्नी किसी मिसाल से कम नहीं है. मध्य प्रदेश के IPS ऑफ़िसर विवेक राज सिंह ने सिर्फ 9 महीने में अपना 43 किलो वजन घटाया है. अभी विवेक राज सिंह का वजन 87 किलो है जबकि आज से 9 महीने पहले उनका वजन 130 किलो था.

weight loss journey
  • 2/7

छतरपुर के DIG विवेक राज सिंह अपनी वेट लॉस जर्नी के बारे में कहते हैं, जब मैंने वॉकिंग शुरू की, तब कोई ऐसा टारगेट नहीं था और आज जहां मैं पहुंचा हूं, उसकी कल्पना भी नहीं की थी. मैं 130 किलो का था और मुझे लगता था कि नेशनल पुलिस अकैडमी (एनपीए) की पासिंग आउट परेड के दौरान जो 104 किलो का टारगेट था, वही हासिल कर लूं तो बहुत बड़ी बात होगी पर वो भी संभव नहीं लग रहा था.

weight loss journey
  • 3/7

विवेक राज सिंह ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर अपनी वेट लॉस जर्नी शेयर की थी. वो बताते हैं कि बचपन से ही उनका वज़न ज़्यादा था. जब वह क्लास 8 में थे, तब वज़न 88 किलो था, इसके बाद जब नेशनल पुलिस अकैडमी (एनपीए) में ट्रेनिंग के लिए गए, तब तक उनका वज़न बढ़कर 134 किलो हो गया था, एनपीए में 46 हफ़्तों की कड़ी मेहनत के बाद उनका वज़न ज़रूर थोड़ा कम होकर 104 किलो हो गया, इसके बाद बिहार के नक्सली इलाक़ों में तैनाती के दौरान वजन बढ़कर 134 किलो हो गया.

ips
  • 4/7

विवेक राज सिंह बताते हैं कि वो शुरू से ही खाने के शौक़ीन रहे हैं इसलिए बीते 9 सालों में 8-9 किलो वजन कम कर 130 किलो वजन मेंटेन किया. विवेक बताते हैं, मेरी ये वेट लॉस जर्नी अचानक से शुरू हुई, इसकी मैंने कोई प्लानिंग नहीं की. मैंने वॉकिंग करना शुरू किया, वॉकिंग करते करते मैं एक ऐप यूज़ कर रहा था- स्टेप सेट गो और वॉक करते करते धीरे-धीरे स्टेप्स बढ़ते गए और हर दिन उसको एक चैलेंज के रूप में लिया और मेरा वजन कम होने लगा. लगभग 5-6 महीने में करीब 28 किलो वजन कम किया, और तब मुझे पता चला कि मैं मसल भी लॉस कर रहा हूं. फिर facebook में एक फ़िटर ग्रुप है, उससे मुझे काफी जानकारी मिली. फिर मैंने स्ट्रेंथ ट्रेनिंग को शामिल किया, डाइट पर ध्यान देना शुरू किया, उसके बाद मैंने हेल्दी लाइफस्टाइल को अपनाया.

ips
  • 5/7

अब आपके मन में सवाल उठ रहा होगा कि पुलिस महकमे में बतौर DIG काम करते हुए विवेक इतना सब कैसे कर पाते हैं और उनके लिए अपने बिजी रूटीन से फिटनेस के लिए वक्त निकाल पाना कितना मुश्किल होता है.

विवेक इस सवाल के जवाब में कहते हैं, ये बहुत मुश्किल नहीं था क्योंकि लाइफस्टाइल में ही शामिल हो गया. जाहिर है कि मेरी नौकरी ऐसी है जहां बहुत सारी चुनौतियां होती हैं, कई प्रकार की समस्याएं होती हैं लेकिन मैंने इसे अपने रूटीन में शामिल किया जैसे ही मुझे किसी का कॉल आता था तो मैं पैदल चलना शुरू कर देता था और इस तरह मैंने इसे अपनी दिनचर्या में शामिल किया.

ips
  • 6/7

विवेक ने कहा, मैं सभी लोगों से अनुरोध करूंगा कि आप लोग एक सेहतमंद जीवनशैली को अपनाएं, इसमें खाना एक बहुत अहम फैक्टर होता है, खाने के पोषक तत्वों पर ध्यान दें, भारतीय खानपान में प्रोटीन हम लोगों का बहुत कम होता है, प्रोटीन लेना बहुत जरूरी होता है, खास तौर पर मसल गेन करने के लिए. प्रोटीन को जरूर ऐड करें. साथ ही साथ, आप क्या खा रहे हैं और आपको कितनी जरूरत है, उसे देखें और अपनी सुविधा के हिसाब से कोई भी फिजिकल वर्कआउट करें.

ips
  • 7/7

2006 बैच के IPS ऑफिसर विवेक राज सिंह इस वक्त छतरपुर रेंज में बतौर DIG तैनात हैं, वो इससे पहले वह बिहार के लखीसराय, औरंगाबाद और पटना रेल में बतौर SP तैनात रहे हैं. इसके बाद, कैडर ट्रांसफर होकर असम के जिलों में बतौर SP अपनी सेवाएं दीं और फिर इंटर कैडर डेपुटेशन पर मध्य प्रदेश आकर यहां SP PTS सागर, SP सिवनी तैनात रहे हैं. IPS विवेक राज सिंह की पत्नी वरनाली डेका भी 2009 बैच की IAS ऑफिसर हैं, विवेक राज सिंह ने इलेक्ट्रॉनिक्स एंड टेलीकम्यूनिकेशन से इंजीनियरिंग की है.