scorecardresearch
 

Hate Speech मामले में यति नरसिम्हानंद को 14 दिन की न्यायिक हिरासत

उत्तराखंड हेट स्पीच मामले में यति नरसिम्हानंद को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. शनिवार को ही उनकी गिरफ्तारी हुई थी और आज कोर्ट ने उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

X
यति नरसिम्हा नंद को 14 दिन की न्यायिक हिरासत यति नरसिम्हा नंद को 14 दिन की न्यायिक हिरासत
स्टोरी हाइलाइट्स
  • महात्मा गांधी को लेकर दिया गया था विवादित बयान
  • कालीचरण के विचारों का किया था समर्थन

उत्तराखंड हेट स्पीच मामले में यति नरसिम्हानंद को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. शनिवार को ही उनकी गिरफ्तारी हुई थी और आज कोर्ट ने उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. हरिद्वार में हुई धर्म संसद में एक विशेष समुदाय को लेकर विवादित बयान दिया गया था. उसके बाद से ही कार्रवाई की मांग हो रही थी और अब नरसिम्हानंद को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है.

लेकिन संत समाज इस कार्रवाई से खफा चल रहा है. वो लगातार इसके खिलाफ प्रदर्शन कर रहा है. कह रहा है कि ऐसी कार्रवाई उनके मनोबल को नहीं तोड़ने वाली है. वैसे नरसिम्हानंद से पहले जीतेंद्र त्यागी उर्फ वसीम रिजवी को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया था. उस गिरफ्तारी के दौरान यति नरसिम्हानंद वहां मौजूद थे. उन्होंने उस समय पुलिस एक्शन की निंदा की थी और कहा था कि जीतेंद्र उनके भरोसे हिंदू बने हैं. तब यति नरसिम्हानंद ने यहां तक कह दिया था कि रिजवी को छोड़ उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाए.

अब तब तो प्रोटोकॉल के तहत सिर्फ जीतेंद्र त्यागी की गिरफ्तारी हुई, लेकिन फिर शनिवार को यति नरसिम्हानंद भी गिरफ्तार हो लिए. अभी के लिए वे न्यायिक हिरासत में भेज दिए गए हैं. नरसिम्हानंद के विवादित बयान की बात करें तो उन्होंने महात्मा गांधी को लेकर अपशब्द कहे थे. उन्होंने बोला था कि गांधी नामक गंदगी के कारण जिसने स्वामी कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी की है, मां काली और महादेव उनका विनाश करेंगे. उन्होंने कालीचरण के बयान के साथ पूर्ण सहमति भी जाहिर कर दी थी.

उस विवादित बयान के बाद से ही विपक्षी पार्टियों द्वारा यति नरसिम्हानंद की गिरफ्तारी की मांग हो रही थी. संत समाज जरूर इसका विरोध कर रहा था लेकिन पुलिस ने एक्शन लेने में देरी नहीं की.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें