scorecardresearch
 

उत्तराखंडः केदारनाथ की तबाही के साल भर बाद केदारघाटी में मिले 15 नरकंकाल

उत्‍तराखंड की केदारघाटी में आई त्रासदी को सालभर होने को हैं लेकिन नरकंकालों के मिलने का सिलसिला जारी है. पुलिस को केदारनाथ से कुछ दूरी पर 15 नरकंकाल मिले हैं.

फाइल फोटोः केदारनाथ मंदिर फाइल फोटोः केदारनाथ मंदिर

उत्‍तराखंड की केदारघाटी में आई त्रासदी को सालभर होने को हैं लेकिन नरकंकालों के मिलने का सिलसिला जारी है. पुलिस को केदारनाथ से कुछ दूरी पर 15 नरकंकाल मिले हैं. ये कंकाल केदारनाथ मार्ग पर जंगलचट्टी और चीड़बासा मंदिर के आसपास की पहाड़ियों से मिले हैं. ये कंकाल पिछले साल 16-17 जून को केदारघाटी में आई प्राकृतिक आपदा के दौरान जान बचाने के लिए चोटियों की तरफ भागे यात्रियों के बताए जा रहे हैं.

रुद्रप्रयाग पुलिस ने शवों के डीएनए सैम्पल ले लिए हैं. अब इनके अंतिम संस्कार की तैयारी है. केदारघाटी में लापता शवों की तलाश के लिए नई टीम का गठन किया गया है. डीआईजी संजय गुज्‍याल इस टीम की अगुवाई करेंगे. कंकालों के पास मिले सामान को सुरक्षित रखा जाएगा, ताकि यात्रियों के परिजन सामान देखकर इनके मारे जाने की पुष्टि कर सकें.

पुलिस के मुताबिक शुक्रवार शाम केदारनाथ मार्ग पर चीड़बासा मंदिर से करीब सौ-दो सौ मीटर की दूरी पर 15 मानव कंकाल मिले. इनमें से तीन कंकालों में मांस भी बचा है. मौके पर पुलिस को साड़ियां, चूड़ियां, बैग, जूते आदि सामान भी मिला है.

कंकालों को देखकर साफ लगता है कि इन लोगों की मौत केदारघाटी में आए जल प्रलय के कारण नहीं हुई. बल्कि जल प्रलय के दौरान ये लोग जान बचाने के लिए चोटियों की तरफ भागे. इस दौरान मदद नहीं मिलने के कारण इनकी भूख, ठंड और डर से मौत हो गई होगी.

16-17 जून 2013 को आई आपदा में 8000 से अधिक लोग मारे गए और लापता हो गए. हालांकि, आधिकारिक तौर पर यह आंकड़ा 3962 है. अब तक 750 शव मिले और इनका अंतिम संस्‍कार किया गया. पिछले साल पहाड़ियों से 185 कंकाल बरामद हुए थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें