scorecardresearch
 

Mahant Narendra Giri मौत के मामले में SIT का गठन, 18 सदस्यों की टीम करेगी जांच

Mahant Narendra Giri मौत के मामले में SIT का गठन, 18 सदस्यों की टीम करेगी जांच

अखाड़ा परिषद के महंत नरेंद्र गिरि की मौत की जांच जारी है. इस बीच महंत नरेंद्र गिरि का सुसाइड नोट सामने आने से हड़कंप मच गया है. मौत की वजहों को लेकर पुलिस जांच कर रही है. नेताओं को आनें का तांता लगा हुआ है. अपने सुसाइड नोट में नरेंद्र गिरि ने ब्लैमेलिंग वाले उस राज का जिक्र किया है जिसके चलते उन्हें आत्महत्या जैसा कदम उठाना पड़ा. वहीं अपने शिष्य आनंद गिरी पर कई संगीन आरोप लगाए हैं. अब इस मामले में यूपी सरकार ने SIT का गठन किया गया है जियमें 18 सदस्यों की टीम इस मामले की जांच करेगी. सीओ अजीत सिंह चौहान करेंगी टीम की अगुवाई. बता दें कि सुसाइड नोट में नरेंद्र गिरि ने उन लोगों के नाम भी बताए हैं जो उनकी मौत की वजह बन गए. इन आरोपियों की फेरहिस्त में सबसे पहला नाम नरेंद्र गिरि के शिष्य आनंद गिरि का है. सुसाइड नोट में महंत नरेंद्र गिरि ने उन आरोपों पर भी सफाई दी है जिसके जरिए उनकी छवि खराब करने की कोशिश की है. नरेंद्र गिरि ने सुसाइड नोट में लिखा कि उन्होंने कभी भी एक भी पैसे का हेरफेर नहीं किया. देखें ये वीडियो.

Mahant Narendra Giri, president of the Akhil Bharatiya Akhara Parishad, was found dead in his room at the Baghambari Math in Uttar Pradesh's Prayagraj on Monday evening. The UP Police are viewing the case, prima facie, as a suicide. However, one of the seer’s most ardent disciples Anand Giri - who has been detained by the police has alleged that he did not die by suicide but was tortured over money and murdered. A probe team has been formed and the police have collected enough forensic evidences related to the incident. An 18-member team is conducting a detailed probe. Watch this video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें