scorecardresearch
 

Mahant Narendra Giri की रहस्यमयी मौत सनातन संस्कृति की अपूर्ण क्षति, बोले Baba Ramdev

Mahant Narendra Giri की रहस्यमयी मौत सनातन संस्कृति की अपूर्ण क्षति, बोले Baba Ramdev

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की प्रयागराज में मौत हो गई. उनका शव का बाघम्बरी मठ में एक कमरे में फंदे से लटका हुआ था. पुलिस घटनास्थल पर पहुंच गई है और जांच कर रही है. बता दें कि महंत नरेंद्र गिरी संगम तट पर स्थित लेटे हनुमान मंदिर के महंत थे. इस पर बाबा रामदेव ने आजतक से खास बातचीत की और कहा कि महंत नरेंद्र गिरी एक वीर यौद्धा और सन्यासी थे. उनका एस रहस्यमयी तरीके से जाना वो किसी भी तरीके से स्वीकार नहीं हो रहा है. परंतु उनके जाने से एक ओर सनातन संस्कृति की अपूर्ण क्षति हुई है. लेकिन वो ऐसे महापुरुष नहीं थे कि ऐसे रहस्यमय तरीके से चले जाएं. देखें आगे क्या बोले बाबा रामदेव.

Mahant Narendra Giri Maharaj, president of the Akhil Bharatiya Akhada Parishad was found dead at his residence in Uttar Pradesh's Prayagraj. The police, however, is suspecting it to be a case of suicide. According to sources, the door was locked from inside and had to be broken. On this, Baba Ramdev told Aaj Tak that Mahant Narendra Giri was a brave warrior and ascetic. His passing in a mysterious way is not being accepted in any way. But due to his departure, there has been an incomplete loss of Sanatan culture. But he was not such a man to go away in such a mysterious way. Watch this video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×