scorecardresearch
 

Gyanvapi Survey Row: 'ज्ञानवापी के श‍िवल‍िंग पर रखे होते थे हीरे', देखें ह‍िंदू पक्ष के वकील का दावा

Gyanvapi Survey Row: 'ज्ञानवापी के श‍िवल‍िंग पर रखे होते थे हीरे', देखें ह‍िंदू पक्ष के वकील का दावा

ज्ञानवापी पर कानूनी चढाई में जिस सर्वे रिपोर्ट को लेकर हिंदू पक्ष पूरी ताकत से दावेदारी पर उतर आई है, आखिर उसकी अहमियत कितनी है? क्या सर्वे रिपोर्ट के आधार पर अब ज्ञानवापी केस का निपटारा हो जाएगा? क्या सर्वे रिपोर्ट के आधार पर कोर्ट आगे कदम बढाएगा. इसकी संभावना के बारे में फिलहाल कुछ नहीं कहा जा सकता है क्योंकि फिलहाल तो काशी की सर्वे टीम की रिपोर्ट पर सुप्रीम कोर्ट में विचार होना है.सुप्रीम कोर्ट में इस रिपोर्ट की वैधानिकता को चुनौती दी जा चुकी है. कानूनी विशेषक्षों की मानें तो सर्वे रिपोर्ट के आधार पर अदालत किसी नतीजे पर पहुंचकर फैसला सुना दे. इसकी बेहद कम संभावना है. इसे समझने के लिए आजतक ने हिंदू पक्ष के वकील से खास बातचीत की. देखें इस वीडियो में.

In the legal battle on Gyanvapi, the survey report for which the Hindu side has come out with full force to claim, what is its importance. Will the Gyanvapi case be settled on the basis of the survey report? The legality of this report has been challenged in the Supreme Court. If legal experts are to be believed, then on the basis of the survey report, the court should reach a conclusion and give its verdict. There is very little chance of that. To understand this, Aaj Tak had a special conversation with the lawyer of the Hindu side. Watch in this video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें