scorecardresearch
 

Gyanvapi Dispute: ज्ञानवापी के हिंदू मंदिर होने के क्या हैं सबूत? वकीलों ने दीं ये दलीलें

Gyanvapi Dispute: ज्ञानवापी के हिंदू मंदिर होने के क्या हैं सबूत? वकीलों ने दीं ये दलीलें

ज्ञानवापी मामले में सभी पक्षों के अपने-अपने तर्क हैं और उनकी मानें तो वो अपनी जगह सही हैं. हिंदू पक्ष का दावा है कि ज्ञानवापी की जमीन के मालिक आदि विश्वेश्वर हैं. हिंदू पक्ष का कहना है ज्ञानवापी कोई मस्जिद नहीं है क्योंकि औरंगजेब ने संपत्ति को समर्पित करके वक्फ नहीं बनाया था. ये संपत्ति हजारों सालों से आदि विश्वेश्वर के पास है और औरंगजेब ने इसे छीना था. ज्ञानवापी की संपत्ति का धार्मिक चरित्र हमेशा से ही एक हिंदू मंदिर का रहा है, क्योंकि 1669 में मंदिर को तुड़वाकर ही इस पर मस्जिद का निर्माण हुआ है. वीडियो में देखें ज्ञानवापी के हिंदू मंदिर होने के सबूतों पर वकीलों ने क्या दलीलें दी हैं. देखें ये वीडियो.

Gyanvapi Dispute: The Hindu side says Gyanvapi is not a mosque because Aurangzeb did not build a 'Waqf' by dedicating the property. This property belonged to Adi Vishweshwar for thousands of years and it was snatched by Aurangzeb. The religious character of the property of Gyanvapi has always been that of a Hindu temple. In the video, watch the arguments given by the lawyers on the evidence of Gyanvapi being a Hindu temple.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें