scorecardresearch
 

व्यापार बढ़ाने को लेकर यूपी-फ्रांस में बात, एक स्पेशल टीम भी गठित

उत्तर प्रदेश के प्रोडक्ट को दुनिया तक पहुंचाने के लिए यूपी सरकार ने फ्रांस से बात की है. यूपी सरकार में मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने फ्रांस में भारतीय राजदूत से चर्चा की और एक्सपोर्ट को लेकर कई मसले पर मंथन किया.

मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने की बात मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने की बात
स्टोरी हाइलाइट्स
  • व्यापार को लेकर यूपी-फ्रांस में चर्चा
  • इम्पोर्ट-एक्सपोर्ट पर जोर देंगे दोनों पक्ष
  • मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने की राजदूत से बात

उत्तर प्रदेश और फ्रांस के बीच व्यापार को बढ़ावा देने के लिए व्यापक रूप से चर्चा हुई है. उत्तर प्रदेश MSME विभाग और फ्रांस में भारतीय राजदूत जावेद अशरफ ने रक्षा एवं एयरोस्पेस, टेक्स्टाइल, जूते और कौशल विकास जैसे क्षेत्रों में संभावना तलाशने के लिए हाथ मिलाया है और एक कार्यदल गठित करने पर सहमति व्यक्त की है.

राज्य के MSME मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से जावेद अशरफ के साथ बातचीत की थी. उन्होंने कहा कि बातचीत के दौरान उन्होंने निवेश को बढ़ावा देने के लिए नियमों में ढील देते हुए राज्य सरकार द्वारा की गई पहल पर प्रकाश डाला है, महामारी ने राज्य को बाधित आपूर्ति चैन को स्थानांतरित करने का अवसर प्रदान किया है.

सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा, "भारत और उत्तर प्रदेश से फ्रांस के लिए से निर्यात की प्रतिशत क्षमता बढ़ाने का एक बड़ा अवसर है. ग्रेटर नोएडा में जेवर हवाई अड्डे के पास मैंटेनेंस, रिपेयर और ओवरहाल (MRO) के लिए एक बड़ी भूमि पार्सल बनाया गया है, जो फ्रांसीसी कंपनियों को निवेश के अवसर प्रदान कर सकता है."

अतिरिक्त मुख्य सचिव (एमएसएमई और एक्सपोर्ट प्रोमोशन) नवनीत सहगल ने निवेश को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार की नीतियों को समझाया. उन्होंने कहा, "उत्तर प्रदेश में उत्कृष्ट नीतियां और अवसर हैं और यह राज्य में निवेश को बढ़ावा देने और राज्य से बाहर विभिन्न देशों को निर्यात करने का एक शानदार अवसर है."

उन्होंने कहा कि राज्य की कनेक्टिविटी, निवेश नीतियां और आगामी बुनियादी ढांचा इसे एक आकर्षक निवेश केंद्र बना देगा. फ्रांस में भारतीय राजदूत ने कहा कि उप्र, निवेश और निर्यात को बढ़ावा देने के लिए फ्रांस से संपर्क करने वाला पहला राज्य था और साथ ही कहा कि राज्य हालिया सालों में अपनी छवि बदलने में सफल रहा.

यूपी सरकार में मंत्री ने कहा, उन्होंने संकेत दिया कि कोविड -19 महामारी के बाद विदेशों में स्थित फ्रांसीसी कंपनियां या तो फ्रांस वापस लौटने की योजना बना रही थी थीं या चीन का विकल्प तलाश रही थीं. फ्रांस यूरोपीय संघ के बाजार का प्रवेश द्वार है और उत्तर प्रदेश के लिए यह एक आकर्षक अवसर हो सकता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें