scorecardresearch
 

CM योगी ने वाराणसी के एक CHC को लिया गोद, अस्पताल के कायाकल्प में जुटे अफसर

सीएम योगी आदित्यनाथ ने जंगल कौड़िया सीएससी गोरखपुर, चरगावां सीएससी गोरखपुर के अलावा हाथी बाजार सीएससी वाराणसी और मसौधा सीएससी अयोध्या को गोद लिया है. सीएम ने 10 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर सीएचसी हाथी बाजार को दिए हैं.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (File-ANI) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (File-ANI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • CM ने गोरखपुर समेत 3 जिलों के 4 CHC को लिया गोद
  • हाथी बाजार CHC को 10 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी दिए
  • डेढ़ महीने में आदर्श सीएचसी के रूप में अस्पताल सेवाएं देने लगेगा

कोरोना संकट के बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (CHC) को गोद लिया है जिसमें वाराणसी और अयोध्या के 1-1 तो गोरखपुर के 2 सीएचसी शामिल हैं. वाराणसी के सेवापुरी ब्लॉक के हाथी बाजार स्थित सीएचसी को सीएम की ओर से गोद लेने से आसपास के गांव में काफी खुशी है. इस अस्पताल के कायाकल्प के लिए सरकारी अमला तेजी से जुट गया है.

सीएम योगी आदित्यनाथ की ओर से 10 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी सीएचसी हाथी बाजार के लिए उपलब्ध कराए गए हैं. ये सीएचसी रेफरल अस्पताल भी होगा. पिछले दिनों मुख्यमंत्री ने जनप्रतिनिधियों से अस्पतालों को गोद लेने की अपील भी की थी. अगले डेढ़ महीने में आदर्श सीएचसी के रूप में ये अस्पताल सेवाएं देने लगेगा.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने जंगल कौड़िया सीएससी गोरखपुर, चरगावां सीएससी गोरखपुर के अलावा हाथी बाजार सीएससी वाराणसी और मसौधा सीएससी अयोध्या को गोद लिया है.

बिल्डिंग बनाने की तैयारी शुरू  

स्वास्थ्य विभाग की रीढ़ माने जाने वाले गांव के स्वास्थ्य केंद्रों को दुरुस्त करने के लिए खुद योगी आदित्यनाथ ने कदम आगे बढ़ाया है. मॉडल ब्लॉक सेवापुरी के सीएचसी हाथी बाजार को योगी आदित्यनाथ ने गोद ले लिया है. सरकार ने इस सीएचसी में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का काम शुरू कर दिया है. बेड़ों की संख्या बढ़ाने के लिए भी बिल्डिंग बनाने की तैयारी शुरू हो गई है.

वाराणसी के जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि सीएचसी हाथी बाजार काफी महत्वपूर्ण अस्पताल है. इस क्षेत्र की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं की जरूरतों को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उदाहरण प्रस्तुत कर जनपद में पहले सीएचसी हाथी बाजार को गोद लिया है. 

इसे भी क्लिक करें --- 2022 के विधानसभा चुनावों को लेकर BJP में मंथन, नड्डा के घर 2 दिनों की मैराथन बैठक

उन्होंने बताया कि आमतौर पर सीएचसी 30 बेड के होते हैं लेकिन यहां पर मात्र 15 से 20 बेड हैं. बेडों की संख्या बढ़ाने का काम शुरू हो चुका है. जिलाधिकारी ने बताया कि डॉक्टर समेत सभी पैरामेडिकल स्टॉफ को बढ़ाया जा रहा है. इसके लिए नए विज्ञापन निकाले जाएंगे. इस सीएचसी के स्टाफ़ जो कहीं और ड्यूटी पर लगाए गए हैं. उनको भी मुक्त किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि यदि तीसरी लहर आएगी तो बच्चों का भी यहां इलाज हो सकेगा. इस सीएचसी में लेवल-2 के भी दो बेडों की सुविधा रहेगी. कोविड के बाद भी ये सुविधा आम जनमानस के लिए उपलब्ध रहेगी. हाथी बाजार सीएचसी अब एफआरयू (फस्ट रेफरल यूनिट) अस्पताल हो जाएगा. 

ग्रामीणों में खुशी का माहौल 

इस बीच मुख्यमंत्री द्वारा सीएससी हाथी बाजार को गोद लेने से यहां के ग्रामीणों में खुशी का माहौल है. आस-पास के कई गांव के ग्रामीणों का कहना है कि हम बेहद खुश हैं कि मुख्यमंत्री ने हमारे पास के सीएचसी को गोद लिया है. अब हमें इलाज के लिए इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा. सारी सुविधाएं हमें अपने गांव के सरकारी अस्पताल में ही मिल जाएगी. उन्होंने हमारे सीएचसी को गोद लिया इसके लिए हम सभी गांव वाले उन्हें धन्यवाद देते हैं.

गांव के प्रधान अखिलेश कुमार गुप्ता ने भी मुख्यमंत्री का आभार जताया और कहा कि अब हाथी बाजार की जनता ही नहीं बल्कि आस-पास के गांव की बड़ी आबादी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस निर्णय से लाभान्वित होगी. पहले इलाज के लिए शहर जाना पड़ता था. और यदि प्राइवेट अस्पताल में गए तो पैसे बहुत खर्च होते थे. लेकिन सीएचसी में सारी सुविधा मिल जाने से अब जनता को भटकना नहीं पड़ेगा.

कोरोना की तीसरी लहर और स्वास्थ्य विभाग की व्यवस्थाओं को ठीक करने के लिए सीएम योगी लगातार निरीक्षण व समीक्षा कर तैयारियों को दुरुस्त बनाने में जुटे हुए हैं. जिससे तीसरी लहर के प्रभाव को कम किया जा सके. इसी क्रम में सीएम योगी ने सभी जनप्रतिनिधियों से एक-एक स्वास्थ्य केंद्र को गोद लेने का आग्रह किया है. जिलाधिकारी ने बताया कि सभी जनप्रतिनिधियों को अस्पतालों की लिस्ट उपलब्ध करा दिया गया है. इनके चयन करने के बाद विधायक निधि से पैसा रिलीज कर दिया जाएगा.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें