scorecardresearch
 

सीएम अखिलेश ने पार्टी के बागी नेताओं और विधायकों को दिखाया बाहर का रास्ता

यूपी चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी में बागियों पर सीएम अखिलेश यादव ने सख्ती का चाबुक चलाया. पंचायत चुनावों में पार्टी के खिलाफ काम करने पर विधायक समेत कई नेताओं को निलंबित कर दिया गया है.

X
सीएम अखिलेश यादव सीएम अखिलेश यादव

बुधवार को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपनी पार्टी के बागी नेताओं के खिलाफ कड़ा कदम उठाते हुए, उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया. जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में सीतापुर, शाहजहांपुर, फतेहपुर, मिर्जापुर और श्रावस्ती में सपा के कुछ नेताओं ने पदाधिकारियों द्वारा घोषित प्रत्याशियों का विरोध किया था.

जांच के लिए कमेटी गठित
घोषित प्रत्याशियों का विरोध करने वाले नेताओं और विधायकों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए, उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया गया है. निलंबित नेताओं और विधायकों के खिलाफ जांच के लिए कमेटी भी गठित कर दी गई है.

इन नेताओं पर की गई कार्रवाई
सीतापुर के विधायक महेंद्र सिंह, झीन बाबू, अनूप गुप्ता, राधे श्याम जायसवाल और मनीष रावत को विधानमण्डल और पार्टी से निलंबित कर दिया गया. इनके खिलाफ जांच के लिए एक कमेटी गठित कर दी गई है.

सीतापुर की जिला कार्यकारिणी भंग
शाहजंहापुर के पूर्व सांसद मिथिलेश कुमार, फतेहपुर के पूर्व विधायक केके सिंह, पूर्व राज्य मंत्री अंचल सिंह, जिलाध्यक्ष समरजीत सिंह, पूर्व जिलाध्यक्ष रामशरण यादव, पूर्व महासचिव ओमप्रकाश, मिर्जापुर के जिला पंचायत सदस्य पंचदेव सिंह उर्फ नान्हक सिंह, भोलेनाथ पटेल और श्रावस्ती के जिला पंचायत सदस्य राम अभिलाख यादव को 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया गया. सीएम ने सीतापुर की जिला कार्यकारिणी जिलाध्यक्ष शमीम कौसर सहित भंग कर दी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें