scorecardresearch
 

कांठ में कर्फ्यू जैसे हालात, बदले गए ट्रेनों के रूट

शुक्रवार दोपहर से बाधित हुई रेल सेवा अभी तक बहाल नहीं हो पाई है. कई ट्रेनों का रूट बदल दिया गया है और तमाम ट्रेनें देरी से चल रही हैं

पिछले 9 दिनों से सुलग रहा है पश्चिमी उत्तर प्रदेश पिछले 9 दिनों से सुलग रहा है पश्चिमी उत्तर प्रदेश

शुक्रवार को हुए उपद्रव के बाद कांठ में कर्फ्यू जैसे हालात बने हैं. शहर में स्थानीय पुलिस सहित अतिरिक्त पुलिस बल, पीएसी और आरएएफ के जवान तैनात हैं. शुक्रवार दोपहर से बाधित हुई रेल सेवा अभी तक बहाल नहीं हो पाई है. कई ट्रेनों का रूट बदल दिया गया है और तमाम ट्रेनें देरी से चल रही हैं.

मंदिर से लाउडस्पीकर उतारने और दलित महिलाओं पर लाठीचार्ज के मुद्दे पर नौ दिनों से सुलग रहे कांठ में जमकर पथराव और हवाई फायरिंग हुई. इसमें डीएम भी जख्मी हो गए. पुलिस ने विधायक संगीत सोम समेत बीजेपी सांसदों और नेताओं को जहां-तहां गिरफ्तार कर हिंदू महापंचायत तो नहीं होने दी, लेकिन इससे भडक़ी बेकाबू भीड़ ने हावड़ा-हरिद्वार एक्सप्रेस समेत दो ट्रेनों को रोककर कांठ में रेल ट्रैक पर कब्जा कर लिया.

ट्रैक खाली कराने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे और करीब चार सौ राउंड हवाई फायरिंग भी की. इससे लोग भडक़ गए और जबर्दस्त पथराव कर फोर्स को खदेड़ दिया. पुलिस और लोगों में तीन घंटे तक संघर्ष हुआ. ट्रैक को असुरक्षित मानते हुए हरिद्वार रूट पर रेल यातायात रोक बाधित रही.देर शाम कांठ के पास पेली विश्नोई में प्रदर्शनकारियों ने ट्रैक पर फिर से कब्जा जमा लिया.

कांठ विधायक अनीसुर्रहमान के गांव अकबरपुर चैदरी में दलितों के शिव मंदिर से दूसरे वर्ग की शिकायत के बाद पुलिस ने जबरन लाउडस्पीकर उतारा था. विरोध में आई दलित महिलाओं पर लाठीचार्ज के बाद उन्हें जेल भेज दिया था. इसके विरोध में बीजेपी और हिंदू संगठनों ने चार जुलाई को कांठ में थाने के पास हिंदू महापंचायत का ऐलान किया था. शासन ने महापंचायत पर प्रतिबंध लगा दिया था और कांठ को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया था. भाजपा सांसद कुंवर सर्वेश सिंह, कंवर सिंह तंवर, एडवोकेट सत्यपाल सैनी, डॉ. नैपाल सिंह, विधायक संगीत सोम, साध्वी डॉ. प्राची समेत सभी बड़े नेताओं की गिरफ्तारी से महापंचायत नहीं हो सकी.

बीजेपी नेताओं को गिरफ्तार कर दोपहर करीब साढ़े बारह बजे प्रशासन राहत महसूस कर रहा था. लेकिन इसी बीच खेतों में छुपे आसपास के करीब पांच सौ ग्रामीण कांठ में रेलवे ट्रैक पर आकर जमा हो गए. भीड़ ने हावड़ा-हरिद्वार एक्सप्रेस को रोक लिया. इससे पहले कांठ से करीब पांच किलोमीटर दूर हरिद्वार की दिशा में प्रदर्शनकारियों ने मालगाड़ी पर पथराव कर उसे भी रोक लिया. पथराव के बाद दोनों ट्रेनों के चालक जान बचाकर जंगल की ओर भाग गए. पुलिस ने दस से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें