scorecardresearch
 

घर बैठे देख सकेंगे राम मंदिर का भूमिपूजन, ट्रस्ट ने किए टेलीकास्ट के इंतजाम

ट्रस्ट ने अपील की है कि रामभक्त अपने घरों, गांवों, बाजारों, मंदिरों, आश्रमों को सजा सकते हैं और प्रसाद वितरित कर सकते हैं. शाम के समय हर जगह दीप जलाए जा सकते है. साथ ही मंदिर निर्माण के लिए दान करने का भी संकल्प किया जा सकता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो-पीटीआई) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो-पीटीआई)

  • पांच अगस्त को अयोध्या में होगा भूमि पूजन
  • पीएम नरेंद्र मोदी कार्यक्रम में होंगे शामिल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में पांच अगस्त को होने वाले राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होंगे. वहीं श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट का कहना है कि पीएम नरेंद्र मोदी का कार्यक्रम में शामिल होना एक ऐतिहासिक क्षण होगा. साथ ही ट्रस्ट ने देश की जनता से भी कई अपील की है.

श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट ने आधिकारिक बयान में कहा है, 'जिस दिन पीएम नरेंद्र मोदी अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि मंदिर का निर्माण शुरू करने के लिए पूजन कर रहे होंगे, वह आजाद भारत के इतिहास का सर्वाधिक ऐतिहासिक क्षण होगा. इस कार्यक्रम को प्रसारण कई चैनल लाइव प्रसारित करेंगे.'

यह भी पढ़ें: अयोध्या में राम मंदिर के भूमिपूजन कार्यक्रम में पहुंचेंगे पीएम मोदी, योगी ने किया कन्फर्म

ट्रस्ट ने कहा है कि हम दुनिया भर के सभी पूज्य संत-महात्मा और राम भक्तों से अपने परिवार, दोस्तों और समाज के साथ सुबह 11:30 बजे से 12:30 बजे के बीच सामूहिक पूजन और भजन-कीर्तन करने की अपील करते हैं. साथ ही एक बड़े हॉल या सभागार में लाइव वेबकास्ट के लिए व्यवस्था की जा सकती है. ताकि अयोध्या का पूजन कार्यक्रम समाज के लोग देख सकें.

दान करने का संकल्प

ट्रस्ट ने अपील की है कि रामभक्त अपने घरों, गांवों, बाजारों, मंदिरों, आश्रमों को सजा सकते हैं और प्रसाद वितरित कर सकते हैं. शाम के समय हर जगह दीप जलाए जा सकते है. साथ ही मंदिर निर्माण के लिए दान करने का भी संकल्प किया जा सकता है. वहीं प्रचार के सभी साधनो का उपयोग करके ज्यादा से ज्यादा समाज तक यह संदेश पहुंचाएं.

यह भी पढ़ें: अयोध्या: राम मंदिर के भूमिपूजन को भव्य बनाने की तैयारी, VHP ने तैयार किया मेगाप्लान

ट्रस्ट ने कहा कि कोरोना के प्रसार की जांच करने के लिए सभी संभावित सावधानियों का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए. वर्तमान परिस्थितियों में अयोध्या में आने से भारी असुविधा हो सकती है. इसलिए सभी से अनुरोध है कि वे जहां रहें, ऐतिहासिक महत्व के इस भव्य अवसर का उत्सव मनाएं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें