scorecardresearch
 

वाटर ट्रेन लौटाने वाले अखिलेश यादव ने सूखा राहत के लिए केंद्र से मांगी 10 हजार करोड़ की मदद

यूपी सीएम के साथ राज्य के चीफ सेक्रेटरी आलोक रंजन भी बैठक में मौजूद थे. अखिलेश यादव ने सूखे से निपटने के लिए केंद्र सरकार से 10,600 करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता मांगी है.

पीएम नरेंद्र मोदी से सूखे के हालात पर चर्चा पीएम नरेंद्र मोदी से सूखे के हालात पर चर्चा

सूखा प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम मोदी नई दिल्ली में बैठक कर रहे हैं. इस दौरान यूपी के सीएम अखिलेश यादव ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर राज्य की स्थिति पर बातचीत की.

यूपी सीएम के साथ राज्य के चीफ सेक्रेटरी आलोक रंजन भी बैठक में मौजूद थे. अखिलेश यादव ने सूखे से निपटने के लिए केंद्र सरकार से 10,600 करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता मांगी है. इसके अलावा 10 हजार टैंकर और 5 हजार हैंडपंप की मांग की गई है. बता दें कि यूपी के कुल 75 में से 55 जिले सूखे से प्रभावित हैं. इसमें अकेले बुंदेलखंड के ही 7 जिले शामिल हैं. बैठक में पीएम के साथ कृषि मंत्री राधामोहन सिंह भी मौजूद हैं.

सूखे से प्रभावित तीन राज्य यूपी, महाराष्ट्र और कर्नाटक के मुख्यमंत्री आज प्रधानमंत्री के साथ बैठक करेंगे. हालांकि यह तीनों बैठक अलग-अलग समय पर होंगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने के बाद अखिलेश यादव ने कहा कि हम राज्य में पड़े सूखे की स्थिति से लड़ने की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि पीएम से टैंकर के मुद्दे पर बात हुई. सूखाग्रस्त इलाकों में टैंकर से पानी भेजा जाएगा.

केंद्र की वाटर ट्रेन लौटाने पर अखिलेश यादव ने कहा कि बुंदेलखंड में पानी है. हर जगह ट्रने से पानी नहीं भेज सकते हैं. गांव तक ट्रेन नहीं जाएगी वहां टैंकर से ही पानी भेजा जा सकता है. अखिलेश यादव ने कहा कि केंद्र को सूखे पर सभी जानकारी दे दी गई है. सूखे से फसल नष्ट हुई है. उसके लिए भी मुआवजा मांगा गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×