scorecardresearch
 

UP: महराजगंज में मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र का PHC वैक्सीनेशन सेंटर बंद, वैक्सीन लिए भटक रहे लोग

मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र से वैक्सीनेशन सेंटर हटाने को लेकर परतावल सीएचसी के स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी का बेतुका बयान है कि एक वर्ग विशेष के लोग टीकाकरण में रुचि नहीं ले रहे थे. इसलिए वैक्सीनेशन सेंटर को हटा दिया गया है.

महराजगंज के एक इलाके में वैक्सीनेशन सेंटर ही बंद कर दिया गया है. (फाइल फोटो) महराजगंज के एक इलाके में वैक्सीनेशन सेंटर ही बंद कर दिया गया है. (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जागरूकता फैलाने के बजाय बंद किया गया टीकाकरण 
  • दूसरी डोज के लिए भटक रहे लोग

देश के साथ यूपी के महराजगंज जिले में भी कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है. अभी तक नौ हजार पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं. बुधवार को भी 102 कोरोना संक्रमित मिले. इसके बचाव के लिए शासन के निर्देश पर युद्ध स्तर पर शुरू किए गया कोरोना टीकाकरण अभियान को जिले के मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र के बयालिसगांवा में विभाग के कुछ जिम्मेदार अफसरों के गैर जिम्मेदराना रवैये के चलते धक्का लग रहा है.

परतावल क्षेत्र के मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र के न्यू पीएचसी हरपुर तिवारी के वैक्सीनेशन सेंटर को विभाग ने बंद कर दिया है. इससे एक बड़ा तबका वैक्सीनेशन से दूर होता दिख रहा है. मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र से वैक्सीनेशन सेंटर हटाने को लेकर परतावल सीएचसी के स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी का बेतुका बयान है कि एक वर्ग विशेष के लोग टीकाकरण में रुचि नहीं ले रहे थे. इसलिए वैक्सीनेशन सेंटर को हटा दिया गया है.

जबकि स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी का ही यह दायित्व है कि वह लोगों के बीच में जाकर उनको स्वास्थ्य योजनाओं को लेकर जागरूक करें. अगर कोई भ्रम की स्थिति है तो उसे दूर करें. हालांकि मुस्लिम धर्म गुरु पहले ही लोगों को कोरोना वैक्सीनेशन कराने को लेकर अपील कर चुके हैं, लेकिन विभाग अपनी नाकामियों को छिपाने के लिए कोरोना वैक्सीनेशन सेंटर को ही बंद कर दिया. 

महज 1.53 लाख लोगों को लगा है टीका 

जिले की आबादी 30 लाख से अधिक है. शासन के निर्देश पर 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का निशुल्क कोरोना वैक्सीनेशन कराया जाना है. अभी जिले में 18 साल से अधिक उम्र के लोगों का कोरोना टीकाकरण शुरू नहीं हो पाया है. लेकिन 45 वर्ष से अधिक उम्र के लाखों लोग टीकाकरण से वंचित हैं. स्थिति यह है कि तीस लाख की आबादी वाले जिले में अभी तक केवल 1 लाख 53 हजार 763 लोगों को ही कोरोना का टीका लगाया जा सका है. 

दूसरे डोज के लिए भटक रहे लोग

परतावल क्षेत्र के न्यू पीएचसी पर आयोजित टीकाकरण सत्र में सैकड़ों की संख्या में लोग कोरोना का वैक्सीनेशन करा चुके हैं. अब दूसरी डोज लगाने के पहले ही न्यू पीएचसी पर टीकाकरण सत्र को बंद कर दिया गया है. इससे लोग परेशान हैं. कई बुजुर्ग भी पहला टीका लगवा चुके हैं. वह 12 से 15 किमी दूर जाकर टीकाकरण कराने में असमर्थ हैं.

मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र में कोरोना टीकाकरण बंद करने को लेकर कई लोग मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. एके श्रीवास्तव से आपत्ति दर्ज करा चुके हैं. उनका कहना है कि स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी क्षेत्र में स्वास्थ्य योजना व टीकाकरण को लेकर कोई जागरूकता कार्यक्रम नहीं कर रहे हैं. उलटे ही वह टीकाकरण सत्र को बंद कर दिए हैं. 

इस मामले में सीएमओ डॉ. एके श्रीवास्तव का कहना है कि मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र के हरपुर न्यू पीएचसी पर टीकाकरण सत्र आयोजित किया जाएगा. लोगों को कोरोना टीका का दूसरा डोज लगाने के लिए भटकना नहीं पड़ेगा. न्यू पीएचसी पर ही उन्हें दूसरी डोज लगाई जाएगी. मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र में एक वर्ग विशेष के लोगों में टीकाकरण को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए संबंधित अधिकारी को दिशा निर्देश दिया जाएगा. स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी के दायित्व को लेकर लापरवाही के आरोप की भी जांच कराई जाएगी.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें