scorecardresearch
 

हाथरस कांड में सीबीआई की तफ्तीश जारी, पुलिस अधिकारियों से फिर होगी पूछताछ

पीड़िता के अंतिम संस्कार के मामले में मिले साक्ष्यों और परिवार वालो के बयानों के आधार पर निलंबित एसपी विक्रांत वीर और एसडीएम पीपी मीना से पूछताछ करेगी. 

हाथरस केस में सीबीआई फिर करेगी पूछताछ (सांकेतिक फोटो) हाथरस केस में सीबीआई फिर करेगी पूछताछ (सांकेतिक फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • हाथरस गैंगरेप और हत्या मामले में फिर होगी पूछताछ
  • पुलिस अधिकारियों से पूछताछ करेगी सीबीआई
  • अंतिम संस्कार के साक्ष्यों पर पूछे जाएंगे सवाल

हाथरस गैंगरेप और हत्या मामले में सीबीआई, पुलिस अधिकारियों से फिर पूछताछ करेगी. सीबीआई, निलंबित एसपी विक्रांत वीर और एसडीएम पीपी मीना से भी पूछताछ करेगी. इन सभी से पीड़िता के परिवार द्वारा लगाए गए आरोप को लेकर पूछताछ की जाएगी. सीबीआई, पीड़िता के अंतिम संस्कार के मामले में मिले साक्ष्यों और परिवार वालों के बयानों के आधार पर इन लोगों से पूछताछ करेगी. 

अबतक सीबीआई पीड़ित परिवार, गांव वालों, आरोपियों के परिवार और आरोपियों से पूछताछ कर चुकी है. जानकारी के मुताबिक, सीबीआई ने पीड़ित परिवार के रिश्तेदारों से भी उनके घर में जाकर पूरे मामले की जानकारी हासिल की है. इससे पहले शुक्रवार को सीबीआई की टीम पीड़िता की मां और भाई को वारदात वाली जगह पर लेकर पूछताछ के लिए पहुंची. सीबीआई के सभी 15 अधिकारी सीन ऑफ क्राइम वाली जगह पर इन्वेस्टिगेशन कर रहे थे. यह तीसरा मौका था जब सीबीआई की टीम सीन ऑफ क्राइम वाली जगह पर पहुंची हो.

गौरतलब है कि हाथरस गैंगरेप और हत्या के मामले में सीबीआई की जांच जारी है. इस बीच 4 नवंबर को मानवाधिकार की टीम पीड़िता के घर पर गई थी. आज तक/इंडिया टुडे के हांथ एक वीडियो भी लगा है, जब मानवाधिकार की टीम के सदस्य पीड़िता के घर पर उसके भाई से बातचीत कर रहे थे.

वीडियो में पीड़िता का भाई कहता सुनाई दे रहा है कि सीबीआई की टीम ने उससे पूछा कि सब तो कह रहे हैं तुमने मारा है अपनी बहन को, तब पीड़िता का भाई कहता सुनाई दे रहा है कि मुझे अपनी बहन को मारना होता तो मार देता, मारने के बाद पुलिस स्टेशन नहीं लेकर जाता.

देखें: आजतक LIVE TV

बता दें कि हाथरस कांड की पीड़िता खेत में गंभीर हालत में मिली थी. बाद में उसे अलीगढ़ के अस्पताल और उसके बाद दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. पीड़िता ने अपने ही गांव के 4 लड़कों पर गैंग रेप का आरोप लगाया था, जिसके बाद लोकल पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया था.

बाद में यूपी पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर दावा किया था कि पीड़िता के साथ गैंग रेप नहीं हुआ. यूपी पुलिस के इस बयान के बाद कोर्ट ने यूपी पुलिस को फटकार भी लगाई थी. इस मामले में योगी सरकार ने एसआईटी भी बनाई थी, जिसने जांच के बाद रिपोर्ट सरकार को सौंप दी है.

इस मामले में योगी सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की थी, जिसके बाद सीबीआई ने जांच संभाली और कई बार पीड़िता के परिवार से पूछताछ के अलावा अलीगढ़ जेल में बंद चारों आरोपियों से पूछताछ हो चुकी है. इस मामले में शुरुआत से ही कई तरह के बयान सामने आए हैं. अब देखना होगा कि सीबीआई की जांच का अंजाम क्या होता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें