scorecardresearch
 

पुराना वीडियो, नया सवाल... ज्ञानवापी में शिवलिंग या फव्वारे पर क्या हैं दावे? किस पक्ष की क्या हैं दलीलें

ज्ञानवापी में जिस जगह शिवलिंग मिलने का दावा किया है, वहां का एक वीडियो सामने आया है. ज्ञानवापी का ये वीडियो पुराना जरूर है लेकिन इसे लेकर अपने-अपने दावे हो रहे हैं. हिंदू पक्ष इसे शिवलिंग बता रहा है तो मुस्लिम पक्ष इसे फव्वारा बता रहा है.

X
कथित शिवलिंग की तस्वीर और 1990 की वह तस्वीर, जहां वजूखाना है
कथित शिवलिंग की तस्वीर और 1990 की वह तस्वीर, जहां वजूखाना है
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कथित शिवलिंग वाली जगह का वीडियो वायरल
  • सर्वे के पहले का बताया जा रहा है वीडियो, अलग-अलग दावे

काशी विश्वनाथ की दीवार से लगी हुई ज्ञानवापी मस्जिद पर मचा संग्राम तेज हो गया है. याचिकाओं पर सुनवाई के बाद तेजी से सर्वे हुआ और अब समाधान का इंतजार है, सर्वे के बीच आवाज आई 'बाबा मिल गए'. ज्ञानवापी में शिवलिंग मिलने का दावा किया गया है, लेकिन मुस्लिम पक्ष का कहना है कि यह फव्वारा है.

दरअसल ज्ञानवापी में जिस जगह शिवलिंग मिलने का दावा किया है, वहां का वीडियो सामने आया है. ज्ञानवापी का ये वीडियो पुराना जरूर है, लेकिन उसी जगह का है, जिसे लेकर अपने-अपने दावे हो रहे हैं. हिंदू पक्ष इसे शिवलिंग बता रहा है, जो 3 फीट ऊंचा है और व्यास 12 फीट 8 इंच है. हिंदू पक्ष सोशल मीडिया पर वायरल इस वीडियो की तस्दीक भी कर रहा है.

सिर्फ हिंदू पक्ष ही नहीं सहायक कोर्ट कमिश्नर अजय प्रताप सिंह ने तस्दीक की है कि जिस जगह का वीडियो वायरल हो रहा है, वहीं पर हिंदू पक्ष शिवलिंग बता रहा है. हालांकि, विशेष कोर्ट कमिश्नर विशाल सिंह ने साफ किया है कि जो वीडियो वायरल हो रहा है, वह सर्वे के दिन का नहीं है, यह पहले का हो सकता है.

यहां देखें वायरल वीडियो-

विष्णु जैन vs असदुद्दीन ओवैसी

आजतक से एक्सक्लूसिव बातचीत में हिंदू पक्ष के वकील विष्णु जैन ने अपने मोबाइल फोन पर वजूखाने का इलाका दिखाया, जहां शिवलिंग मिलने का दावा किया जा रहा है. वहीं मुस्लिम पक्ष का दावा है कि जिसे शिवलिंग बताया जा रहा है, दरअसल वह फुव्वारा है. AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने यहां तक कह दिया कि ऐसे फुव्वारे हर मस्जिद में होते हैं.

'हर-हर महादेव का जयघोष'

सोमवार को ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के आखिरी दिन सिर्फ 2 घंटे सर्वे हुआ. सर्वे नंदी की मूर्ति के सामने उस जगह पर हुआ, जहां शिवमंदिर का दावा किया जाता रहा है. यहां मस्जिद का वजूखाना है. पानी निकालने पर जो मिला, उसे देख हिंदू पक्ष उछल पड़े. शिवलिंग का दावा करते हुए हर-हर महादेव का जयघोष करने लगे.

'फुव्वारे को शिवलिंग बताया जा रहा'

बाहर आकर हिंदू पक्ष ने शिवलिंग के दावे का सार्वजनिक कर दिया. शिवलिंग के दावे से हिंदू पक्ष गदगद है तो मुस्लिम पक्ष इस दावे को सिरे नकार रहा है. मुस्लिम पक्ष का कहना है कि शिवलिंग का दावा गलत है, जिसे शिवलिंग बताया जा रहा है, वो फव्वारा है. मुस्लिम पक्ष के वकील मेराजुद्दीन ने कहा कि फुव्वारे को शिवलिंग बताया जा रहा है.

'नंदी हैं तो भोलेनाथ भी होंगे'

हिंदू पक्ष शिवलिंग को नंदी की मूर्ति से जोड़ कर देख रहा है. भारतीय परंपरा में नंदी अकेले नहीं हो सकते. अगर नंदी हैं तो उनके मुख के सामने शिवलिंग का होना तय है. हिंदू पक्ष पहले दिन के सर्वे के बाद से ही कल्पना से परे सबूत का दावा करता रहा है.. दावा है कि ज्ञानवापी के जिन तीन कमरों का सर्वे किया गया वहां पर सर्प, कलश, घंटियां, स्वस्तिक, संस्कृत के श्लोक और स्वान की मूर्तियां मिली हैं.

मुख्य गुम्बद की दीवार को लेकर दावा

सबसे बड़ा दावा तो ज्ञानवापी मस्जिद की मुख्य गुम्बद की दीवार को लेकर किया गया. हिंदू पक्ष का कहना है कि यही मंदिर का गर्भगृह था, जिसे औरंगजेब ने तोड़ दिया. अगर इस दीवार में लगे इस दरवाजे को हटा दिया जाए तो कोई भी गर्भगृह में जा सकता है. ज्ञानवापी केस ही मंदिर-मस्जिद का मामला है. अर्जी भी इसी पर है.

याचिका में भी था शिव मंदिर-शिवलिंग का दावा

जिन 5 महिलाओं की अर्जी के बाद सर्वे का आदेश हुआ, उन याचिका में भी शिव मंदिर-शिवलिंग का दावा किया गया है. 5 महिलाओं की अर्जी में कहा गया है कि तहखाने में 'शिवलिंग' की संभावना है. साथ ही गणपति के होने का दावा किया गया. तहखाने के उत्तर-पूर्वी खंभे पर श्लोक और मंदिर की कलाकृतियां की बात कही गई है.

'औरंगजेब ने तोड़ी थी मंदिर, अहिल्याबाई होल्कर ने बनाई'

मस्जिद की पश्चिमी दीवार पर अंदर 'अष्टदल' है. श्रृंगार गौरी मंडप की दीवार को मंदिर का अवशेष बताया गया. कई इतिहासकार मानते है कि काशी विश्वनाथ मंदिर का निर्माण गुप्तकाल के दौरान हुआ. मोहम्मद गौरी के आदेश पर मंदिर के कुछ हिस्से तोड़े गए. आखिरी दफा औरंगजेब ने मंदिर तोड़ दी और ज्ञानवापी मस्जिद उसकी जगह बनाई गई. बाद में रानी अहिल्याबाई होल्कर ने ज्ञानवापी मस्जिद के ठीक बगल में दोबारा मंदिर निर्माण करवाया.

(रिपोर्ट- आजतक ब्यूरो)

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें