scorecardresearch
 

60 बच्चों के नरसंहार के दोषियों को बचाने के लिए मुझे बनाया बलि का बकरा: कफील खान

कफील खान ने कहा कि मुझे लगता है कि योगी आदित्यनाथ सरकार ने मुझे सिर्फ उन लोगों को बचाने के लिए बलि का बकरा बनाया, जो मौतों के असली अपराधी थे.

डॉक्टर कफील खान (फाइल फोटो- PTI) डॉक्टर कफील खान (फाइल फोटो- PTI)

  • डॉ. कफील खान बोले- UP सरकार ने मुझे बलि का बकरा बनाया
  • गोरखपुर BRD मेडिकल कॉलेज में हुई थी 60 से ज्यादा बच्चों की मौत

गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में 60 से अधिक बच्चों की मौत के मामले में निलंबित किए गए डॉक्टर कफील खान को जांच रिपोर्ट में दोषी नहीं माना गया है. इंडिया टुडे के कंसल्टिंग एडिटर राजदीप सरदेसाई से बात करते हुए कफील खान ने कहा कि योगी सरकार ने उन्हें बलि का बकरा बनाया है. यह एक नरसंहार था.

कफील खान ने कहा कि दो साल बाद क्लीन चिट मिलने से मैं खुश हूं और राहत महसूस कर रहा हूं. उठापटक भरे दो साल बाद पूरे परिवार को थोड़ी राहत मिली है. इस घटना से न केवल मुझे, बल्कि पूरे परिवार को नुकसान हुआ. फिलहाल, सभी लोग तनावमुक्त और खुश हैं.

सीएम योगी आदित्यनाथ को जवाब देना चाहिए

कफील खान ने कहा कि उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ को जवाब देना चाहिए. उन्होंने कहा, '11 या 12 अगस्त को जब मौत हुई थी, हर कोई कफील खान के बारे में बात कर रहा था. वे यह भी पूछ रहे थे कि उन 60 बच्चों की मौत कैसे हुई. वे यह भी पूछ रहे थे कि पैसे किसने नहीं दिए.

सीएम योगी के चार शब्दों ने बदल दी जिंदगी

कफील खान ने सीएम योगी आदित्यनाथ पर धमकाने का आरोप लगाते हुए कहा, 'योगी आदित्यनाथ ने मुझे 13 अगस्त, 2017 को फोन किया और कहा- तू सिलेंडर लाया था, तुझे देखता हूं. इन चार शब्दों ने मेरी जिंदगी बदल दी. मुझे लगता है कि योगी आदित्यनाथ सरकार ने मुझे सिर्फ उन लोगों को बचाने के लिए बलि का बकरा बनाया, जो मौतों के असली अपराधी थे.'

कमीशन के लिए नहीं किया गया था भुगतान

कफील खान ने कहा कि इस हादसे के लिए जिम्मेदार लोग वही थे, जिन्होंने बकाए के भुगतान को लेकर पुष्पा सेल्स द्वारा भेजे गए पत्रों का जवाब नहीं दिया. उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने कमीशन के लिए भुगतान नहीं किया. मैंने हमेशा से कहा है कि यह एक नरसंहार था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें