scorecardresearch
 

‘सामाजिक सांकल’ तोड़ वृंदावन में होली खेलेंगी 800 विधवाएं

वृंदावन में रविवार को सदियों पुरानी सामाजिक बाधाओं को तोड़ते हुए विधवाओं ने सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर एक होली मिलन समारोह में भाग लिया. अगले चार दिनों तक चलने वाले होली उत्सव में 800 विधवाएं शामिल होंगी.

वृंदावन में रविवार को सदियों पुरानी सामाजिक बाधाओं को तोड़ते हुए विधवाओं ने सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर एक होली मिलन समारोह में भाग लिया. अगले चार दिनों तक चलने वाले होली उत्सव में 800 विधवाएं शामिल होंगी.

सामाजिक टिप्पणीकार पारस नाथ चौधरी ने कहा, ‘अतीत की नाल को तोड़ना कोई आसान काम नहीं है. समय बदल रहा है और लोगों को सामाजिक सुधार आंदोलन का विरोध करने की बजाय उसका समर्थन करना चाहिए.’ वृंदावन में पांच विधवा महिलाओं के घर का माहौल उमंग भरा था. लोग जोश और जीत को महसूस कर रहे थे.

एक कार्यक्रम ‘सांस्कृतिक क्रांति’ में शामिल होने आगरा आए बृज मंडल विरासत सरंक्षण सोसायटी के कार्यकर्ता श्रवण कुमार सिंह ने कहा, ‘यह हर साल जैसा होली उत्सव नहीं था, बल्कि महिलाओं को मुख्यधारा में शामिल करने का एक प्रयास था.’ चार दिन तक चलने वाले इस होली महोत्सव की अगुवाई करीब 800 से भी ज्यादा विधवा महिलाएं करेंगी.

हाल ही में एक सामाजिक संगठन सुलभ इंटरनेशल द्वारा प्रत्येक पंजीकृत विधवा महिला को चिकित्सीय सुविधा, नौकरी प्रशिक्षण और मासिक भत्ता के रूप में 2000 रुपये देने के लिए एक कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया है.

सुलभ इंटरनेशल के संस्थापक बिंदेश्वर पाठक ने कहा कि विधवा महिलाओं को सामाजिक सम्मान दिलाने में मदद देने के लिए कई कार्यक्रम शुरू किए गए हैं. होली मिलन समारोह में विधवा महिलाओं ने अन्य लोगों और विदेशी पर्यटकों के साथ मिलकर भोजन भी साझा किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें