scorecardresearch
 

जेवर एयरपोर्ट के पास 250 एकड़ में बनेगी इलेक्ट्रॉनिक सिटी, बड़ी कंपनियां लगाएंगी प्लांट

उत्तर प्रदेश सरकार ग्रेटर नोएडा यमुना एक्सप्रेसवे में तेजी से विकास कार्यों में लगी हुई है. यही वजह है कि जेवर और यमुना एक्सप्रेस वे इलाके में एयरपोर्ट, फिल्म सिटी और टॉय पार्क जैसी तमाम बड़ी योजनाएं शुरू की गई हैं.

जेवर एयरपोर्ट का डिजाइन जेवर एयरपोर्ट का डिजाइन
स्टोरी हाइलाइट्स
  • इलेक्ट्रॉनिक सिटी 250 एकड़ में बसाई जाएगी
  • इलेक्ट्रॉनिक कंपनियां लगाएगी प्लांट

उत्तर प्रदेश सरकार ग्रेटर नोएडा यमुना एक्सप्रेसवे में तेजी से विकास कार्यों में लगी हुई है. यही वजह है कि जेवर और यमुना एक्सप्रेस वे इलाके में एयरपोर्ट, फिल्म सिटी और टॉय पार्क जैसी तमाम बड़ी योजनाएं शुरू की गई हैं. अब उत्तर प्रदेश सरकार यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में इलेक्ट्रॉनिक एसेसीरीज के लिए इलेक्ट्रॉनिक पार्क विकसित करने जा रही है.

इसी कवायद में प्रदेश के एमएसएमई, निर्यात और निवेश मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने यमुना प्राधिकरण के अफसरों और इंडियन सेलुलर एंड इलेक्ट्रॉनिक एसोसिएशन (आईसीईए) के साथ बैठक की. बैठक में एसोसिएशन के प्रतिनिधियों ने यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में इलेक्ट्रॉनिक एसेसरीज के लिए पार्क विकसित करने के लिए मंथन किया गया. 

यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुण वीर सिंह ने बताया यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में मोबाइल इलेक्ट्रॉनिक एसेसरीज कंपनियों के लिए विशेष तौर पर एक इलेक्ट्रॉनिक पार्क विकसित किया जाएगा इस बार को सेक्टर 14 या फिर सेक्टर 10 में शुरू किए जाने की योजना है. इस पार्क के विकसित होने से प्राधिकरण क्षेत्र में न केवल निवेश आएगा बल्कि लोगों को रोजगार भी मिल सकेगा. 

यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ.अरुणवीर सिंह ने बताया कि इस पार्क के लिए सेक्टर-24ए या सेक्टर-10 में जमीन दी जाएगी. उन्होंने इसका प्रस्ताव सरकार के समक्ष रखा और इस पर जल्द निर्णय लेने की बात कही गई है. बैठक में कई और मुद्दों पर भी चर्चा की गई. नोएडा इंटरनेशनल ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट के पास बनने वाली इलेक्ट्रॉनिक सिटी में करीब 50 करोड़ का निवेश आने की उम्मीद है ये इलेक्ट्रॉनिक सिटी 250 एकड़ में बसाई जाएगी. यहां मोबाइल, टीवी और तमाम दूसरे इलेक्ट्रॉनिक सामान बनाने वाली राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय कंपनियां आएंगी. 

सेक्टर-37 में दो अखाड़े बनाने को मंजूरी, एस्टीमेट तैयार
वहीं, अब ग्रेटर नोएडा के गांवों से भी कुश्ती के बेहतरीन खिलाड़ी निकल सकेंगे. ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने सेक्टर 37 में प्रस्तावित स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में रेसलिंग कोर्ट बनाने का निर्णय लिया है. इस पर करीब 60 लाख रुपये खर्च होंगे. इसका टेंडर शीघ्र जारी होने जा रहा है. ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण के निर्देश पर खेलो इंडिया के तहत ग्रेटर नोएडा के अंतर्गत आने वाले गांवों में खेल सुविधाएं बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है. इसी कड़ी में अब ग्रेटर नोएडा के सेक्टर 37 में रेसलिंग कोर्ट बनाने की योजना है. सेक्टर 37 में पहले से स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स के लिए करीब चार हेक्टेयर जगह चिंहित है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें