scorecardresearch
 

UP: नोएडा के दौरे पर CM योगी ने जिन दो सेंटर का किया था दौरा, वहां दो दिन से लटक रहा ताला

उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर में सीएम योगी ने हाल ही में कुछ कोविड सेंटर का दौरा किया था. सीएम योगी जिन कोविड सेंटर्स पर गए थे, उनमें से दो कोविड सेंटर पर अब ताला लटका हुआ है.

कोविड सेंटर पर ताला लटका हुआ है. सीएम योगी ने इस सेंटर का दौरा किया था. कोविड सेंटर पर ताला लटका हुआ है. सीएम योगी ने इस सेंटर का दौरा किया था.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सीएम योगी ने हाल ही में किया था दौरा
  • बंद पड़े सेंटर पर गार्ड तक नहीं मौजूद

उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर में सीएम योगी ने हाल ही में कुछ कोविड सेंटर का दौरा किया था. सीएम योगी जिन कोविड सेंटर्स पर गए थे, उनमें से दो कोविड सेंटर पर अब ताला लटका हुआ है. रविवार 16 मई के दिन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गौतमबुद्ध नगर, गाज़ियाबाद और मेरठ के दौरे पर आए थे.

सबसे पहले मुख्यमंत्री मीडियाकर्मियों के लिए बनाये गए वैक्सीनेशन सेंटर पर गए. उसके बाद वो सेक्टर-16 ए एनटीपीसी गए वहां अधिकारियों से बात की और फिर मीडिया से मुखातिब हुए. इसके बाद करीब पौने 2 बजे मुख्यमंत्री तमाम वरिष्ठ अधिकारियों के साथ सेक्टर 45 के इस कोविड केयर सेंटर पहुंचे और यहां के हालात का जायजा लिया. लेकिन दो दिन बाद ही यहां मेन गेट पर ताला लगा है. साइड वाला दरवाजा भी अंदर से बंद है और कोई जवाब भी नहीं दे रहा है. बहुत कोशिश की गई लेकिन अंदर कोई जवाब नहीं मिला. यहां तक कि गेट पर गार्ड तक मौजूद नहीं था, और न ही अंदर से किसी ने जवाब दिया.

जानकारी के मुताबिक यहां पर फिलहाल एक भी मरीज नहीं है. अंदर बेड खाली पड़े थे, मेज पर दवाइयां थी.  इस मामले पर यहां के अधिकारियों का कहना है कि ये कोविड सेंटर तब बनाया गया था जब शहर में कोविड के मामले तेज़ी से बढ़ रहे थे. अब हालात काबू में है और बेड की भी कमी नहीं है. यहां मरीज नहीं हैं और ये बंद है.

नोएडा के सरकारी ऐप की बात करें तो 18 मई की शाम 3 बजकर 40 मिनट पर गौतमबुद्ध नगर में आईसीयू बेड-40, ऑक्सीजन बेड-486, सामान्य बेड-839 खाली नजर आया. सरकारी  अधिकारियों का कहना है कि यही वजह है कि कोविड केयर सेंटर खाली है या बंद हैं.

यहां के दौरे के बाद मुख्यमंत्री सीधे छपरौली गांव पहुंचे, छपरौली में स्कूल में जहां वैक्सीनेशन का काम चल रहा था वहां पर गांव के लोगों से मिले और किस तरह का इंतजाम है इस पर बात की. 

ग्रेटर नोएडा इलाके के एसडीएम प्रसून द्विवेदी कहना है कि छपरौली के स्कूल में मुख्यमंत्री ने गांव के लिए बन रही निगरानी समितियों के सदस्यों से बात की थी और वहां पर टेस्टिंग का काम शनिवार को हुआ था. इसके बाद टेस्टिंग का काम वहां बन्द कर दिया गया. इस स्कूल से कुछ कदम की दूरी पर ही एक वैक्सीनेशन सेंटर भी है जहां पर इलाके के लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है.

जब इस मुद्दे पर शहर के डीएम और सीएमओ से बात करनी चाही तो उनके पीआरओ ने फोन उठाया और मीटिंग की बात कह कर बात कराने में असमर्थता जता दी.

जिस छपरौली गांव मुख्यमंत्री पहुंचे थे. यहां की आबादी करीब साढ़े तीन हजार है और गांव में एक वैक्सीनेशन सेंटर है. यहां मौजूद नर्स का कहना था कि हर दिन उनका टारगेट 200 वैक्सीनेशन का होता है और मंगलवार 4 बजे तक 164 लोग वैक्सीन लगवा कर जा चुके थे. इस सेंटर पर 18 से ज्यादा उम्र के लोगो को वैक्सीन लगाई जा रही है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें