scorecardresearch
 

कोरोना संकट में प्रियंका गांधी हुईं सुपरएक्टिव, UP में चलाए साझी रसोई- कांग्रेस का सिपाही अभियान

कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिए प्रियंका गांधी वाड्रा जनता कर्फ्यू लगने से एक दिन पहले 21 मार्च एक वीडियो ट्वीट किया. इसमें प्रियंका ने साबुन से अपने हाथ धोते हुए कोरोना से लोगों को जागरूक किया. इसके अलावा प्रियंका ने यूपी में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को जमीन पर उतारकर लोगों की मदद करने के लिए भी कहा.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (फाइल-फोटो) कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (फाइल-फोटो)

  • प्रियंका गांधी लॉकडाउन में यूपी में ऐसे कर रहीं मदद
  • यूपी के शहरों में गरीबों के भोजन के लिए साझी रसोई शुरू

कोरोना संक्रमण के खतरों से लड़ने और लोगों की मदद में सरकार अपना काम कर रही है तो साथ ही राजनीतिक दल और सामाजिक संगठन भी लोगों की मदद कर रहे हैं. इनमें कांग्रेस महासिचव और उत्तर प्रदेश की पार्टी प्रभारी प्रियंका गांधी भी शामिल हैं. प्रियंका गांधी ने कोरोना संकट के बीच पीएम मोदी और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के लोकप्रिय फैसलों पर खुला हमला करने से परहेज किया. यहां तक कि प्रवासी श्रमिकों के जरिए इशारों-इशारों में सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'प्रजा करे हाहाकार, जागो हे सरकार'.

कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिए प्रियंका गांधी वाड्रा ने जनता कर्फ्यू से एक दिन पहले 21 मार्च एक वीडियो ट्वीट किया था. इसमें प्रियंका ने साबुन से अपने हाथ धोते हुए एक वीडियो अपलोड किया था और यह बताया कि कैसे 'छोटी-छोटी सावधानियां' कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई को और मजबूत करेंगी. इस तरह से कोरोना वायरस को लेकर प्रियंका ने दो तीन वीडियो जारी किए थे.

प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश लोगों की मदद के लिए कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को जमीन पर तैनात किया है तो सूबे के कई शहरों में साझी रसोई स्थापित कराई ताकि कमजोर आर्थिक स्थिति वालों इस समय खाना मिल सके. प्रियंका ने 'कांग्रेस फाइट्स कोरोना' नाम से एक वॉट्सऐप ग्रुप बना रखा है, जिसमें यूपी संगठन के करीब 200 लोगों को जोड़ रखा है. इसी ग्रुप के जरिए प्रियंका पार्टी की पूरी गतिविधियों पर नजर रख रही हैं और कोरोना संकट में लोगों की मदद के लिए निर्देशित करती हैं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

प्रियंका ने रिलायंस के मुकेश अंबानी, एयरटेल के सुनील भारती मित्तल और बीएसएनएल के अधिकारियों सहित अन्य लोगों को अगले एक महीने के लिए इनकमिंग और आउटगोइंग कॉल मुफ्त करने के लिए खत लिखा, ताकि प्रवासी मजदूरों को अपने परिवारों के साथ संपर्क बनाए रखने में मदद मिल सके. साथ ही प्रियंका गांधी ने देश के मठों, डेरों, मंदिरों, मस्जिदों, गुरुद्वारों और गिरजाघरों से जुड़े धर्मगुरुओं और प्रमुख लोगों संदेश पत्र भेजकर कहा कि इस संकट की घड़ी में असहायों की मदद करने के लिए खुद भी आगे आएं और लोगों से अपील करें.

मजदूरों की मदद के लिए हाइवे टास्क फोर्स

उत्तर प्रदेश से पलायन करके लोग देश के कोने कोने में अपनी आजीविका के लिए रहते हैं, लेकिन लॉकडाउन होने के बाद अचानक लोग अपने घरों की तरफ लौट रहे हैं. ऐसे में प्रियंका गांधी ने पार्टी के यूपी संगठन के लोगों को पलायन करने वाले मजदूरों के खाने-पीने की व्यवस्था की जिम्मेदारी सौंपी. प्रियंका गांधी के निर्देश पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने एक हाइवे टास्क फोर्स बनाई है जो कि दिल्ली से सटे जिलों में सक्रिय है. उत्तर प्रदेश आने वालों को अपने वाहनों से छोड़ रहे हैं और उनके ठहरने का बंदोबस्त कर रहे हैं.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

घर-घर राशन पहुंचा रहे 'कांग्रेस सिपाही'

लॉकडाउन के चलते सबसे बड़ी दिक्कत बेघर लोगों, दिहाड़ी मजदूर, रिक्शे वाले और मलिन बस्तियों में रहने वाले लोगों को राशन की हो रही है. ऐसे में प्रियंका गांधी ने सूबे के सभी जिलों में कांग्रेस का सिपाही नाम से एक वॉलंटियर ग्रुप बनाया है. इसके लिए प्रियंका गांधी ने प्रदेश सरकार को जानकारी दी थी कि कांग्रेस के कार्यकर्ता इस विपत्ति की स्थिति में लोगों की हरसंभव मदद करने को तैयार हैं, शासन प्रशासन से मिलकर वे मदद करना चाहते हैं. यूपी के हर जिले में मदद की अनुमति भी प्रशासन ने कुछ कार्यकर्ताओं को दी है, जिसके तहत गरीबों को राशन पहुंचाने का काम किया जा रहा है.

प्रियंका गांधी के निर्देश पर साझी रसोई

लॉकडाउन के बीच कारोबार पूरी तरह से ठप है, जिसके चलते गरीब मजदूरों को खाने के लाले पड़े हैं. ऐसे में प्रियंका गांधी ने यूपी के लखनऊ, नोएडा, गाज़ियाबाद, फतेहपुर, वाराणसी सहित कई शहरों में साझी रसोई शुरू की है. इसके तहत कांग्रेसी कार्यकर्ता खुद भोजन बना रहे हैं और लोगों के बीच वितरण कर रहे हैं. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि इसके जरिए हमारी हरसंभव कोशिश है, कि ज्यादा से ज्यादा लोगों की मदद कर सकें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें