scorecardresearch
 

यूपी चुनावः पार्टी के प्रति है कितना 'डेडिकेशन', चेक कर टिकट देगी कांग्रेस

कांग्रेस पार्टी जो फॉर्म उम्मीदवारों से भरवा रही है, उसमें साफ तौर पर पूछा गया है कि आपका पॉलिटिकल एक्सपीरियंस क्या है? आप कितने समय से कांग्रेस में काम कर रहे हैं? आपकी योग्यता क्या है?

प्रियंका गांधी (फाइल फोटो) प्रियंका गांधी (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कांग्रेस ने वेरिफिकेशन के लिए बनाई रूट लेवल कमेटियां
  • प्रियंका गांधी करेंगी फैसला- किसे देना है कांग्रेस का टिकट

उत्तर प्रदेश में कुछ ही महीने बाद विधानसभा चुनाव होने हैं. विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस भी कमर कस रही है. पार्टी महासचिव ने कार्यकर्ताओं के साथ बैठकें कर हालात की जानकारी ली तो वहीं तस्वीरें खिंचवाकर समर्थकों का मनोबल भी बढ़ाया. पार्टी ने अब चुनावी समर में अपने योद्धा उतारने के पैमाने का भी ऐलान कर दिया है.

कांग्रेस पार्टी से टिकट पाने चाह रखने वालों को पार्टी की ओर से निर्धारित फॉर्मेट में एक फॉर्म के जरिए इलेक्शन कमेटी में आवेदन करना होगा. कांग्रेस ने रूट लेवल कमेटियां बनाई हैं जिनमें पार्टी के न्याय पंचायत और ग्राम पंचायत अध्यक्ष हैं. ये कमेटियां कैंडिडेट को लेकर रिसर्च करेंगी और एक रिपोर्ट कार्ड इलेक्शन कमेटी को सौपेंगी. 10 लोगों के नाम इलेक्शन कमेटी तक भेजे जाएंगे. इलेक्शन कमेटी आठ लोगों को रिजेक्ट कर दो लोगों के नाम हाईकमान यानी प्रियंका गांधी वाड्रा को भेजेगी जिसमें से प्रियंका गांधी के यहां एक नाम तय होगा जो विधानसभा चुनाव में पार्टी का उम्मीदवार होगा.

कांग्रेस पार्टी जो फॉर्म उम्मीदवारों से भरवा रही है, उसमें साफ तौर पर पूछा गया है कि आपका पॉलिटिकल एक्सपीरियंस क्या है? आप कितने समय से कांग्रेस में काम कर रहे हैं? आपकी योग्यता क्या है? कांग्रेस की नीतियों से आप कितना परिचित हैं? आपके क्षेत्र में आपकी पहचान किस तरीके से हैं? अपराधिक इतिहास आपका है कि नहीं? इसके अलावा उम्मीदवारों को कुछ लाइन में ये भी बताना होगा कि उन्हें क्यों उम्मीदवार बनाया जाए?

कांग्रेस की इलेक्शन कमेटी के सदस्य नसीमुद्दीन सिद्दीकी के मुताबिक न्याय पंचायत अध्यक्ष और ग्राम सभा अध्यक्ष को हर विधानसभा में तैनात किया गया है जिनकी संख्या तकरीबन 50 हजार है. ये लोग टिकट के लिए आवेदन करने वालों के संबंध में निर्धारित बिंदुओं के आधार पर जानकारी जुटाएंगे. उन्होंने बताया कि रूट लेवल कमेटियां ये भी पता करेंगी कि कांग्रेस से टिकट का आवेदन करने वाले का पार्टी के प्रति डेडिकेशन कितना है.

नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने ये भी बताया कि कांग्रेस से टिकट के लिए अब तक लगभग हर विधानसभा से आवेदन आए हैं. कहीं से एक तो कहीं से 10-10 आवेदन मिले हैं. इतनी तादाद में जिस तरीके से विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए लोगों ने एप्लीकेशन फॉर्म भर के इलेक्शन कमेटी को सौंपे हैं, पार्टी ने इन सभी के रिपोर्ट कार्ड बनाने के लिए रूट लेवल कमेटियों को कार्य सौंपना शुरू कर दिया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें