scorecardresearch
 

अयोध्याः राम मंदिर निर्माण ने पकड़ी रफ्तार, 1 जून से बनना शुरू होगा गर्भगृह

अयोध्या में बन रहे राम मंदिर के प्रथम तल का निर्माण कार्य 1 जून से शुरू होगा. इसी तल पर गर्भगृह भी बनना और निर्माण की शुरुआत भी गर्भगृह में पूजित शिलापट्ट लगाकर की जाएगी.

X
राम मंदिर का मॉडल राम मंदिर का मॉडल
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सीएम योगी भी हो सकते हैं शामिल
  • साधु-संतों की रहेगी मौजूदगी

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के कार्य ने रफ्तार पकड़ ली है. दावा किया जा रहा है कि 1 जून से मंदिर की पहली मंजिल का निर्माण शुरू हो जाएगा. पहली मंजिल पर ही गर्भगृह का निर्माण भी होना है. 1 जून को ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि है. ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मृगशिरा नक्षत्र के साथ कई साल बाद दुर्लभ संधि व सर्वधसिद्ध योग मिल रहे हैं.

जानकारी के मुताबिक 1 जून की सुबह 9 से 11 बजे के बीच वैदिक मंत्रोच्चार के बीच श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के गर्भगृह में एक शिलापट्ट लगाकर पहली मंजिल के कार्य का शुभारंभ होगा. इसके लिए ज्येष्ठ शुक्ल की द्वितीया तिथि का चयन इसलिए किया गया, क्योंकि कहा जाता है कि इस खास तिथि और मुहूर्त को किए जाने वाले सभी दुर्लभ कार्य पूरे हो जाते हैं. यही कारण है कि पहले तल का निर्माण कार्य शुरू करने के लिए 1 जून की तिथि का चयन किया गया है.

इस अवसर पर राम मंदिर ट्रस्ट के ट्रस्टी और अयोध्या के साधु संतों की भी मौजूदगी रहेगी. कहा तो ये भी जा रहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी कार्यक्रम में शामिल हो सकते हैं. श्रीराम मंदिर के चबूतरे के निर्माण में 17000 ग्रेनाइट पत्थर का इस्तेमाल किया जाना है. इस चबूतरे में लगाए जाने वाले 17000 में से 5000 पत्थर अभी तक लगाए जा चुके हैं.

सितंबर तक पूरा तैयार होगा चबूतरा

इस संबंध में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षत्र के ट्रस्ट के अनिल मिश्र ने कहा कि राम जन्मभूमि परिसर में मंदिर निर्माण के लिए चबूतरा तैयार करने का कार्य चल रहा है. लगभग 21 फुट ऊंचा ये चबूतरा ग्रेनाइट पत्थरों से तैयार किया जा रहा है जिसमें 17000 पत्थर लगाए जाएंगे. इसमें से करीब 5000 पत्थर अब तक लगाए जा चुके हैं. इस पूरे चबूतरे को सितंबर माह तक तैयार किया जाना है लेकिन इस दौरान मंदिर का निर्माण भी प्रारंभ कर दिया जाएगा.

उन्होंने ये भी कहा कि इसके लिए गर्भगृह स्थल के आसपास के क्षेत्र में 30 मई तक 21 फुट ऊंचा चबूतरा बनाए जाने का कार्य पूरा कर लिया जाएगा. अनिल मिश्र ने कहा कि जून माह से मंदिर निर्माण का कार्य भी प्रारंभ हो जाएगा. राम मंदिर निर्माण की शुरुआत के लिए खास दिन और खास मुहूर्त का खास ध्यान रखा जा रहा है और इसीलिए 1 जून का मुहूर्त तय किया गया है.

1 जून को बन रहा दुर्लभ संयोग

श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास राम मंदिर निर्माण के लिए 1 जून का शुभ मुहूर्त तय किया गया है. रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास की माने तो यह दिन बहुत शुभ दिन माना गया है. ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष द्वितीया तिथि को मृगशिरा नक्षत्र के साथ कई साल के बाद दुर्लभ संधि और सर्वधसिद्ध योग मिल रहा है. इस दिन होने वाले सभी दुर्लभ कार्य पूर्ण हो जाएगा.

2023 तक पूरा हो जाएगा प्रथम तल का निर्माण

गौरतलब है कि श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के प्रथम तल का निर्माण कार्य 2023 तक पूरा हो जाएगा. अक्टूबर से दिसंबर 2023 के बीच अस्थायी मंदिर से रामलला को भव्य और दिव्य श्रीराम जन्मभूमि मंदिर में शिफ्ट कर दिया जाएगा. इसी के साथ अयोध्या का बहु प्रतीक्षित श्रीराम मंदिर दर्शनार्थियों के लिए खोल दिया जाएगा. मंदिर की दो अन्य मंजिल का निर्माण कार्य चलता रहेगा. मंदिर निर्माण का कार्य योजना के मुताबिक चलता रहा तो साल 2025 तक इसे पूरा कर लिया जाएगा.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें