scorecardresearch
 

सुन्नी वक्फ बोर्ड की सफाई, अयोध्या मामले को वापस लेने की SC में नहीं लगाई याचिका

आजतक से खास बातचीत में जुफर फारुकी ने कहा कि हमने सुप्रीम कोर्ट में ऐसा कोई आवेदन नहीं दिया है, जिसमें यह कहा गया हो कि हम केस को वापस कर रहे हैं.

सुप्रीम कोर्ट सुप्रीम कोर्ट

  • बोर्ड के अध्यक्ष ने अयोध्या केस वापस लेने की खबरों का किया खंडन
  • जुफर फारूकी का पैनल को दिए प्रस्ताव की जानकारी देने से इनकार

सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष जुफर फारूकी ने अयोध्या मामले को वापस लेने की खबरों को सिरे से खारिज किया है. लखनऊ में आजतक से खास बातचीत में जुफर फारुकी ने कहा, 'हमने सुप्रीम कोर्ट में ऐसा कोई आवेदन नहीं दिया है, जिसमें यह कहा गया हो कि हम केस को वापस कर रहे हैं. जहां तक मध्यस्थता पैनल का सवाल है, तो जो हमने मध्यस्थता पैनल से कहा है, वह जानकारी सार्वजनिक नहीं कर सकते हैं.'

जुफर फारूकी ने कहा कि केस वापस लेने का कोई आवेदन सुप्रीम कोर्ट में नहीं दिया गया है, जो भी दिया है, वह मध्यस्था पैनल को दिया है. हालांकि हम इसकी जानकारी नहीं दे सकते हैं कि उसमें क्या कहा है? एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'देखिए जो यह चर्चा चल रही है कि हमने अपनी याचिका सुप्रीम कोर्ट में वापस लिया है, इसमें कोई सच्चाई नहीं है. यह खबर कहां से चली कि हमने अपील वापस करने का हलफनामा दिया है, यह हमको भी नहीं मालूम है.'

हमने मध्यस्थता पैनल को दिया प्रस्तावः फारूकी

सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष फारूकी ने बताया, 'हमने एक प्रस्ताव सेटलमेंट के रूप में मध्यस्थता पैनल को दिया है. जाहिर है कि मध्यस्थता पैनल ने उसे सुप्रीम कोर्ट को भेजा होगा, लेकिन इसके भीतर क्या लिखा है, यह हम नहीं बता सकते है. क्योंकि सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन थी कि मध्यस्थता पैनल की बात सार्वजनिक नहीं आनी चाहिए.

फारूकी बोले- पैनल को दी गई डिटेल नहीं कर सकते सार्वजनिक

एक सवाल के जवाब में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष ने कहा, ‘अयोध्या मामले में सेटलमेंट हुआ है या नहीं, यह मैं नहीं कह सकता हूं, लेकिन हमारे जो प्रस्ताव थे वो हमने मध्यस्थता पैनल को दिए हैं. अब मध्यस्थता पैनल ने सुप्रीम कोर्ट को क्या लिखा और क्या इस आधार पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले होंगे, यह मैं नहीं कह सकता हूं.’

जुफर फारूकी कहा, ‘सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि सुनवाई चलती रहेगी और अगर पक्षकार चाहें तो मध्यस्थता पैनल को अपनी बात कह सकते हैं. इसके लिए मध्यस्थता पैनल की पहले की शर्तें लागू रहेंगी. लिहाजा हमने और कुछ और पक्षकार ने मध्यस्थता पैनल को अपनी बातें लिखी हैं. इसकी मैं डिटेल नहीं दे सकता हूं और न ही मैं यह बता सकता हूं कि इसमें कौन-कौन आया या कौन-कौन नहीं आया, इस पर चर्चा नहीं कर सकता हूं.’

उन्होंने कहा, ‘हमने जो प्रस्ताव दिया है और उसके अंदर क्या लिखा है, इसके लिए आपको इंतजार करना पड़ेगा. इसकी जानकारी सुप्रीम कोर्ट ही सार्वजनिक करेगा. इसके लिए सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के आदेश का इंतजार करें.’

मुस्लिम समुदाय की क्या है प्रतिक्रिया?

इसके अलावा सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के द्वारा मध्यस्थता पैनल के जरिए अयोध्या मामले को वापस लेने का हलफनामा देने पर मुस्लिम समुदाय में अलग-अलग प्रतिक्रिया है. कई मुस्लिम समुदाय के लोगों से आजतक संवाददाता कुमार अभिषेक ने सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के इस फैसले पर प्रतिक्रिया ली तो ज्यादातर लोग इसके खिलाफ नजर आए कि आखिर अगर यही करना था, तो पहले क्यों नहीं किया किया? आखिरी वक्त में क्यों किया?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें