scorecardresearch
 

भाभी को जिंदा जलाकर मारा, घर से 100 मीटर की दूरी पर 16 साल जेल में बंद रहा शख्स, अब हुआ रिहा

उत्तर प्रदेश के महराजगंज में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर एक ऐसे कैदी को रिहा किया गया है जो अपने घर से महज 100 मीटर की दूरी पर बीते 16 सालों से जेल की सजा काट रहा था. उस शख्स को कोर्ट ने अपनी भाभी को जलाकर मारने के मामले में दोषी पाए जाने के बाद आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी.

X
16 साल बाद जेल से बाहर आया शख्स 16 साल बाद जेल से बाहर आया शख्स

उत्तर प्रदेश के महराजगंज में जेल में बंद एक कैदी घर से महज सौ मीटर की दूरी पर जिला कारागार में सोलह सालों की लंबी सजा काट ली जिसके बाद उसकी बाकी की सजा माफ कर दी गई. 

शख्स को भाभी की हत्या के जुर्म में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी. कैदी जगदीश गुप्ता अपने घर से चंद दूरी पर बीते 16 साल से जेल में बंद थे लेकिन अच्छे चाल चलन को देखते हुए सरकार ने उनकी बाकी की सजा माफ कर दी है.
 
जिला कारागार में बंद कैदी जगदीश गुप्ता धनेवा धनेई टोला मंगलपुर के रहने वाले हैं. उनके अच्छे आचरण को देखते हुए सरकार ने उनकी बाकी सजा को माफ कर दिया जिसके बाद आज जेल से  उनकी रिहाई हो गई.

साल 2006 में जगदीश गुप्ता ने घरेलू विवाद मे अपनी ही भाभी को चारपाई में बांधकर और जलाकर मार दिया था. इसके बाद केस दर्ज हुआ और दोषी पाए जाने के बाद कोर्ट ने जगदीश को आजीवन कारावास की सजा सुना दी.

जगदीश गांव में स्थित घर से महज सौ मीटर दूर जेल में 16 सालों की सजा काट ली लेकिन सरकार द्वारा 15 अगस्त पर अच्छे आचरण वाले कैदियों की रिहाई वाली सूची में जगदीश गुप्ता का भी नाम था.

इस कारण जगदीश की आज रिहाई हो गई. जब जगदीश से बात की गई तो उसने कहा कि सजा तो मैंने काट ही ली है लेकिन मेरी सबसे बड़ी सजा ये थी कि घर के बगल में रहते हुए भी मैं घर से दूर था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें