scorecardresearch
 

राणा कपूर की बेटी को लंदन जाने से रोका, परिवार के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर

येस बैंक के पूर्व सीईओ राणा कपूर के पूरे परिवार के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किया गया है. जिसके बाद राणा कपूर की बेटी रोशनी कपूर को लंदन जाने से रोका गया है.

रोशनी कपूर (फाइल फोटो) रोशनी कपूर (फाइल फोटो)

  • राणा कपूर की बेटी को लंदन जाने से रोका
  • पूरे परिवार के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर

येस बैंक के पूर्व सीईओ राणा कपूर के पूरे परिवार के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी किया गया है. जिसके बाद राणा कपूर की बेटी रोशनी कपूर को लंदन जाने से रोका गया है.

येस बैंक के संकट को लेकर राणा कपूर के साथ ही उनका पूरा परिवार शक के दायरे में आ चुका है. इस बीच उनकी बेटी रोशनी भारत छोड़ने की फिराक में थी. रोशनी कपूर मुंबई एयरपोर्ट से लंदन जा रही थी. लेकिन रोशनी को एयरपोर्ट पर रोक दिया गया. वहीं राणा कपूर के दामाद आदित्य के खिलाफ भी लुक आउट सर्कुलर जारी किया गया है.

यह भी पढ़ें: राणा कपूर पर शिकंजा, 2000 करोड़ की संपत्ति पर अब ED की नजर

वहीं येस बैंक के संस्थापक राणा कपूर पर शिकंजा कसता जा रहा है. 11 मार्च तक प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की हिरासत में भेजे गए राणा कपूर को लेकर अब एक नया खुलासा हुआ है. सूत्रों के मुताबिक राणा कपूर के कुछ निवेश शक के दायरे में हैं.

यह भी पढ़ें: येस बैंक: मुश्किल में राणा कपूर, कोर्ट ने 11 मार्च तक ED की हिरासत में भेजा

जांच में पता चला है कि राणा कपूर ने 2000 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति में निवेश किया था. ये संपत्ति भारत में हैं. प्रवर्तन निदेशालय को शक है कि संपत्तियों में रिश्वत का पैसा लगाया गया था. यूनाइटेड किंगडम (यूके) में भी संपत्तियों का खुलासा हुआ है.

शेल कंपनियों का गठन

सूत्रों का कहना है कि राणा कपूर पर आरोप है कि उन्होंने कई शेल कंपनियों का गठन किया ताकि कथित रूप से रिश्वत में मिली रकम को खपाया जा सके. ईडी के पास इस बात के सबूत हैं कि डीएचएफल को राणा कपूर की मदद से लोन दिया गया, जबकि डीएचएफल इसे चुकाने में नाकाम था.

शक के घेरे में पूरा परिवार

रिपोर्ट के मुताबिक बिन्दू कपूर और उनकी तीन बेटियां राखी, रोशनी और राधा के नाम पर कई कंपनियां हैं. इन्होंने कथित रूप कई कॉरपोरेट घरानों से रिश्वत (किकबैक) ली है. ये किकबैक कथित रूप से येस बैंक से लोन दिए जाने के एवज में मिला है.

यस बैंक पर संकट

दरअसल, देश के कई दिग्गज प्रोफेशनल के जरिए शुरू किया गया निजी क्षेत्र का येस बैंक संकट में फंस गया है. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने इसके बोर्ड का संचालन अपने हाथों में लेते हुए इससे महीने में 50 हजार रुपये तक की ही निकासी की सीमा तय कर दी है. सरकार ने इसे संकट से दूर करने के लिए कवायद भी शुरू कर दी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें