scorecardresearch
 

जानें, कितनी संपत्ति छोड़ गए हैं अटल बिहारी वाजपेयी, अब किसका होगा अधिकार?

2004 के शपथ पत्र के अनुसार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की चल-अचल संपत्ति 58,99, 232 रुपए है. जिसमें 2004 में उनकी चल संपत्ति 30,99,232.41 रुपये थी तो वहीं अचल संपत्ति की कीमत 28,00,000 रूपये थी.

X
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेया के साथ उनके दामाद रंजन भट्टाचार्या (फाइल फोटो)
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेया के साथ उनके दामाद रंजन भट्टाचार्या (फाइल फोटो)

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी नहीं रहे. उन्होंने एम्स में गुरुवार को 5 बजकर 5 मिनट पर अंतिम सांस ली. 93 साल के वाजपेयी लंबे वक्त से बीमार थे और 2009 से व्हीलचेयर पर थे. उनके पिता पंडित कृष्णबिहारी वाजपेयी टीचर थे और मां कृष्णा देवी घरेलू महिला थीं.

अटल जी के परिवार में उनके माता-पिता के अलावा तीन बड़े भाई अवधबिहारी, सदाबिहारी और प्रेमबिहारी वाजपेयी और तीन बहनें थीं. उनकी प्रारंभिक शिक्षा सरस्वती शिक्षा मंदिर, बाड़ा में हुई. इसके अलावा अटल जी के ग्वालियर में कई रिश्तेदार हैं. इनमें भतीजी कांति मिश्रा और भांजी करुणा शुक्‍ला हैं. वहीं, ग्वालियर में अटल जी के भतीजे दीपक वाजपेयी और भांजे सांसद अनूप मिश्रा हैं.  

अटल जी को श्रद्धांजलि देने के लिए यहां क्लिक करें

हालांकि, अटल बिहारी वाजपेयी आजीवन अविवाहित रहे. लेकिन, 1998 में जब वे 7, रेसकोर्स रोड में रहने पहुंचे तो उनकी दोस्त राजकुमारी कौल की बेटी और उनकी दत्तक पुत्री नमिता और उनके पति रंजन भट्टाचार्य का परिवार भी साथ रहने आया. राजकुमारी कौल के बारे में बताया जाता है कि जब अटल प्रधानमंत्री थे तब कौल वाजपेयी के घर की सदस्य थीं. उनके निधन के बाद वाजपेयी के आवास से जो प्रेस रिलीज जारी की गई थी, उसमें उन्हें वाजपेयी के घर का सदस्य संबोधित किया गया था.

साल 2004 के लोकसभा चुनाव में अटल बिहारी वाजपेयी की तरफ से जमा किए गए शपथ पत्र के अनुसार अटल के नाम कुल चल संपत्ति 30,99,232.41 रुपये थी. वहीं पूर्व प्रधानमंत्री होने के नाते 20,000 रुपये की मासिक पेंशन और सचिवीय सहायता के साथ 6000 रुपये का कार्यालय खर्च भी मिलता था.

यदि अटल जी की अचल संपत्ति की बात करें तो 2004 के शपथ पत्र के अनुसार उनके नाम पर दिल्ली के ईस्ट ऑफ कैलाश में फ्लैट नं0 509 है. जिसकी 2004 के समय कीमत 22 लाख रुपये थी. वहीं अटल जी के पैतृक निवास शिंदे की छावनी कमल सिंह का बाग की 2004 के समय कीमत 6 लाख रुपये थी. इस तरह 2004 के शपथ पत्र के लिहाज से अटल जी की कुल अचल संपत्ति 28,00,000 रुपये थी.  

हालांकि, अभी अटल जी की वसीयत सामने नहीं आई है लेकिन साल 2005 में संशोधित हिन्दू उत्तराधिकार कानून के अनुसार यह संपत्ति उनकी दत्तक पुत्री नमिता और दामाद रंजन भट्टाचार्य को मिलने की उम्मीद है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें