scorecardresearch
 

जब संजय दत्त करेंगे सरेंडर तो क्या होगा उनके साथ?

संजय दत्त को स्पेशल टाडा कोर्ट में सरेंडर करने के बाद उन्हें कोर्ट कस्टडी से सीधे जेल अथॉरिटी को सौंप दिया जाएगा. कानूनी प्रकिया के मुताबिक उन्हें नजदीक की ही जेल यानी आर्थर रोड जेल लाया जाएगा.

संजय दत्त को स्पेशल टाडा कोर्ट में सरेंडर करने के बाद उन्हें कोर्ट कस्टडी से सीधे जेल अथॉरिटी को सौंप दिया जाएगा. कानूनी प्रकिया के मुताबिक उन्हें नजदीक की ही जेल यानी आर्थर रोड जेल लाया जाएगा.

# कानूनी प्रकिया के मुताबिक जैसे ही संजय दत्त आर्थर रोड जेल पहुचेंगे उन्हे frisking यानी उस प्रकिया से गुजरना पड़ेगा, जिसमें उनकी नग्‍न अवस्था में जांच की जाएगी और उनके शरीर पर मौजूद निशानों को नोटिंग करने के साथ-साथ शरीर पर मौजूद गहनों आभूषणों और अन्य चीजों को जमा कर लिया जाएगा. गौरतलब है कि सजय दत्त पहले आर्थर रोड जेल में रह चुके हैं. ऐसे में शरीर पर जिन निशानों की पहले नोटिंग की जा चुकी है उसे केवल मैच किए जाने की प्रकिया को पूरा किया जाएगा.

# आर्थर रोड जेल में पहुंचते ही संजय दत्त को आफ्टर बैरक यानी उस बैरक में रखा जाएगा जहां ट्रासफर किए जानेवाले कैदियों को एकसाथ रखा जाता है. अगर संजय दत्त शाम से पहले सरेंडर करते हैं तो ऐसे में उन्हे शाम को 4 बजे से 6 बजे के बीच में रात का भोजन दे दिया जाएगा जिसमें 5 रोटियां, दाल, 1 सब्जी और दो कटोरी चावल दिया जाएगा और यही भोजन उनके लेट सरेंडर किए जाने के बाद भी 8 से 9 के बीच दिया जाएगा.

# गौरतलब है कि संजय दत्त को आर्थर रोड जेल और ठाणे जेल में रखना संभव नहीं है. आर्थर रोड जेल की क्षमता 804 कैदियों की है और यहां 2500 से ज्यादा कैदी हैं. साथ ही आर्थर रोड जेल में बंद ज्यादातर कैदी अंडरट्रायल हैं. वहीं, ठाणे जेल में कैदियों की क्षमता 1021 है, जबकि वहां भी कैदी 2840 के ऊपर हैं. वहीं, नवी मुबई की तलोजा जेल में अबू सालेम बंद है जहां पर संजय दत्त को भेजना संभव नही क्योंकि कानूनी प्रकिया के हिसाब जिन अपराधियों को सजा मिल चुकी होती है ऐसे कैदी को जेल में रखते समय ये ध्यान देना जरुरी होता है कि जेल में उससे बदला लेनेवाला कोई न हो.

# ऐसे में संजय दत्त को यरवडा जेल में शिफ्ट किया जाएगा. संभव है कि आर्थर रोड जेल में लाने के कुछ घंटे बाद ही उन्हें शिफ्ट कर दिया जाए या फिर दूसरे दिन उन्हें यरवडा जेल ले जाया जाए. शिफ्ट किए जाने का वक्त संजय दत्त के सरेंडर के वक्त के बिनाह पर तय किया जाएगा. अगर दूसरे दिन उन्हें शिफ्ट किया जाता है तो तड़के सुबह 7 बजे  नाश्ता दिया जाएगा. जिसमें उन्हे मूंग की सब्जी, दो चपाती, 1 कप चाय, 4 ब्रेड और 2 केले या फिर दूध दिया जाएगा. तकरीबन 9 बजे डॉक्टरों की टीम शिफ्टिंग से पहले उनकी जांच करेगी. शिफ्टिंग में अगर वक्त ज्यादा लगता है तो तकरीबन 10 बजे उन्हें दोपहर का खाना दे दिया जाएगा जिसमें 5 चपाती, 2 कटोरी चावल और 2 फल की बनी हुई सब्जियां दी जाएंगी और फिर पुलिस की लोकल आर्म्स डिविजन की टीम उन्‍हें स्पेशल स्कॉड करते हुए पुणे की यरवडा जेल तक पहुंचाएगी.

# यरवडा जेल की क्षमता 2449 कैदियों की है जिसमें से 2323 कैदी पुरुष और 126 महिला कैदी रह सकती हैं. हालांकि यरवडा जेल में क्षमता से ज्यादा कैदी हैं, लेकिन सश्रम कारावास पाए लोगों के लिए इस जेल को मुनासिब माना जाता है. पुणे की यरवडा जेल की दीवारें 3 हिस्सों में बटी हैं जिसमें सबसे आखिरी और ऊंची दीवार सबसे बाहर की परत की है. जिसकी ऊंचाई लगभग 21 फीट है और इसे पूरी तरह सीमेंट कंक्रीट से तैयार किया गया है जिसे तोड़ना और भेदना आसान नही है.

# संजय दत्त को जेल से बाहर आने का मौका 1 साल बाद ही मिल पाएगा. एक साल के बाद उन्हें 15 दिन के पेरोल और 30 दिनो फरलो मिलेगा. जिसमें वो अपने जरूरी काम निपटा सकते हैं. लेकिन ये सुविधा भी अच्छे आचरण के बाद ही दी जा सकती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें