scorecardresearch
 

गणतंत्र दिवस परेड के दौरान ओबामा को राजपथ पर दिखेगा यह सब...

सोमवार 26 जनवरी को भारत देश अपना 66वां गणतंत्र दिवस मनाएगा. मुख्य अतिथि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा भारत पहुंच चुके हैं . हैदराबाद हाउस में साझा बयान के दौरान उन्होंने कहा कि वह सोमवार के कार्यक्रम के लिए बहुत उत्साहित हैं, वहीं ऐतिहासिक राजपथ पर गणतंत्र दिवस की परेड में देश की सैन्य क्षमता, विभिन्न क्षेत्रों में अर्जित उपलब्धियों, आधुनिक रक्षा उपकरणों का सार्वजनिक तौर पर प्रदर्शन किया जाएगा.

गणतंत्र दिवस फुल ड्रेस रिहर्सल के दौरान घुड़सवार दल गणतंत्र दिवस फुल ड्रेस रिहर्सल के दौरान घुड़सवार दल
14

26 जनवरी को भारत अपना 66वां गणतंत्र दिवस मनाएगा. मुख्य अतिथि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा भारत पहुंच चुके हैं . हैदराबाद हाउस में साझा बयान के दौरान उन्होंने कहा कि वह सोमवार के कार्यक्रम के लिए बहुत उत्साहित हैं. वहीं ऐतिहासिक राजपथ पर गणतंत्र दिवस की परेड में देश की सैन्य क्षमता, विभिन्न क्षेत्रों में अर्जित उपलब्धियों, आधुनिक रक्षा उपकरणों, विविध सांस्कृतिक और सामाजिक परंपराओं के अलावा सरकार की आत्मनिर्भरता व स्वदेशीकरण का सार्वजनिक तौर पर प्रदर्शन किया जाएगा.

इस साल की परेड का मुख्य आकर्षण देश में विकसित सतह से हवा में मार करने वाली मध्यम दूरी की 'आकाश मिसाइल' (सेना संस्करण) और हथियारों का पता लगाने वाले रडार होंगे. इन्हें डीआरडीओ ने विकसित किया है. हाल ही प्राप्त लंबी दूरी तक समुद्री निगरानी करने वाले और पनडुब्बी रोधी विमान 'पी-8आई' और काफी दूरी तक मार करने वाली उन्नत लड़ाकू विमान 'मिग-29के' को पहली बार देखा जा सकेगा. इस साल की परेड में पहली बार तीनों सैन्य बलों थलसेना, नौसेना और वायुसेना की महिला दलों के मार्चिंग दस्ते को शामिल किया जाएगा.

भारतीय सेना की लेजर निर्देशित मिसाइल क्षमता टी-90 'भीष्म' टैंक, सैन्य वाहन बीएमपी द्वितीय (सरत) के अलावा ट्राउल युक्त टी-72 को भी मैकेनाइज्ड कॉलम्स में प्रदर्शित किया जाएगा. इसे पिनाका मल्टीपल बैरल लांचर सिस्टम के बाद प्रदर्शित किया जाएगा. इसके बाद मोबाइल ऑटोनॉमस लांचर ब्रह्मोस मिसाइल, त्रि-आयामी सामरिक नियंत्रण रडार, गतिशील संचार उपग्रह और आसानी से तैनात करने योग्य सैटेलाइट टर्मिनल (आरएडीएसएटी) को प्रदर्शित किया जाएगा.

राजपथ पर भारतीय वायु सेना की झांकी '1965 के युद्ध के 50 साल' की थीम पर आधारित है. 1965 की लड़ाई में अपने कौशल दिखाने वाले भारतीय वायु सेना के कैनबरा बमवर्षक 'एमआई-4' हेलीकॉप्टर और हवाई परिवहन विमान का प्रदर्शन किया जाएगा. उभरते राष्ट्र के समुद्रों की सुरक्षा को सुनिश्चत करने जैसे विषय को ध्यान में रखते हुए भारतीय नौसेना अपनी झांकी में समुद्री युद्ध के सभी चार आयामों में से कुछ को प्रदर्शित करेगी. स्वदेश निर्मित विध्वंसक आईएनएस कोलकाता, उन्नत हल्के हेलीकॉप्टर 'ध्रुव' के साथ ब्रह्मोस मिसाइल लांच करने के मॉडल को प्रदर्शित कर नौसेना आत्मनिर्भरता और स्वदेशीकरण की अपनी प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करेगी.

नारी शक्ति का प्रदर्शन
दूसरी झांकी में 'भारतीय नौ सेना और नारी शक्ति' का प्रदर्शन किया जाएगा. इसमें वे चार महिला अधिकारी शामिल होंगी, जिन्होंने भारतीय नौसेना के पोत महादेई में गोवा से लेकर ब्राजील के रियो-डी-जेनेरियो तक समुद्र की विषमताओं का बहादुरी से सामना करते हुए समुद्री यात्रा में हिस्सा लिया था. परेड समारोह इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति पर शुरू होगा, जहां प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी पुष्पांजलि अर्पित कर शहीदों को राष्ट्र की ओर से श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे. मातृभूमि की सेवा में बलिदान देने वाले सशस्त्र बलों के जवानों के अदम्य साहस की स्मृति में अमर जवान ज्योति पर हमेशा लौ प्रज्जवलित रहती है.

परंपरा के अनुसार, राष्ट्रीय ध्वज फहराने के बाद 21 तोपों की सलामी के साथ राष्ट्रीय गान आयोजित होगा. इसके बाद ही परेड शुरू होगी और राष्ट्रपति सलामी लेंगे. दिल्ली क्षेत्र के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल सुब्रतो मित्रा परेड की कमान संभालेंगे. दिल्ली क्षेत्र के चीफ ऑफ स्टाफ, मेजर जनरल अभय कृष्ण परेड के सेकेंड-इन-कमांड होंगे. जबकि परम वीर चक्र विजेता सूबेदार मेजर और मानद कैप्टन बाना सिंह (सेवानिवृत्त), सूबेदार योगेंद्र सिंह यादव, 18 ग्रेनेडियर्स और नायब/ सूबेदार संजय कुमार, 13 जेएके राइफल्स और अशोक चक्र विजेता मेजर जनरल साइरस पिथावाल्ला, बीजीएस (टीआरजी), मुख्यालय दक्षिणी कमान, लेफ्टिनेंट कर्नल जस राम सिंह (सेवानिवृत्त), पूर्व मानद नायब सूबेदार छेरिंग मुटुप (सेवानिवृत्त), हुकुम सिंह और गोविन्द सिंह दोनों मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले हैं और मध्य प्रदेश के ही गुना जिले के भुरे लाल जीप पर सवार होकर परेड के उप कमांडर के पीछे चलेंगे.

कुछ ऐसा होगा मार्चिंग दस्ता
सेना के मार्चिंग दस्तों में 61वें घुड़सवार फौज की टुकड़ी, सभी महिला अधिकारियों के दल का नेतृत्व कर रहीं कप्तान दिव्या ए, ब्रिगेड ऑफ गार्ड्स, ग्रेनेडियर्स, जाट रेजिमेंट, सिख रेजिमेंट, कुमाऊं रेजीमेंट, जम्मू-कश्मीर राइफल्स, 14 गोरखा प्रशिक्षण केन्द्र और प्रादेशिक सेना (पंजाब) शामिल होंगे. नौ सेना के मार्चिंग दल में 144 युवा नाविक होंगे, जिनका नेतृत्व नौसेना की लेफ्टिनेंट कमांडर संध्या चौहान करें.गी जबिक सभी महिला नेवेल दस्ते का नेतृत्व लेफ्टिनेंट कमांडर प्रिया जयकुमार करेंगी. वायु सेना के दल में 144 जवान शामिल होंगे, जिसका नेतृत्व स्क्वाड्रन लीडर मानवेंद्र सिंह करेंगे जबकि वायुसेना के महिला अधिकारियों का नेतृत्व स्क्वाइड्रन लीडर स्नेहा शेखावत करेंगी.

अर्धसैनिक और अन्य सहायक नागरिक बल भी परेड में शामिल होंगे. इसमें सीमा सुरक्षा बल, असम राइफल्स, भारतीय तटरक्षक बल, केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल, भारत-तिब्बत सीमा पुलिस, केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल, सशस्त्र सीमा बल, रेलवे सुरक्षा बल, दिल्ली पुलिस, राष्ट्रीय कैडेट कोर और राष्ट्रीय सेवा योजना के दल शामिल होंगे. ऊंट पर सवार बीएसएफ के बैंड और भूतपूर्व सैनिकों की टुकड़ियां भी परेड की मुख्य आकर्षण होंगी.

झांकियां भी होंगी खास
इसके अलावा 16 राज्यों और 9 केंद्रीय मंत्रालयों व विभागों की झांकियां देश की विभिन्न ऐतिहासिक, स्थापत्य और सांस्कृतिक विरासत को पेश करेंगी. इस दौरान विभिन्न क्षेत्रों में हो रही प्रगति, विशेषकर महिला व बाल कल्याण मंत्रालय की 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' को प्रदर्शित किया जाएगा. इसके अलावा अपनी बड़ी इलायची की खेती के जरिए राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था में योगदान दे रहे सिक्किम और मध्य प्रदेश के भगोरियों के आदिवासी त्योहार विशेष आकर्षण होंगे.

राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार-2014 के लिए चुने 24 बच्चों में 20 बच्चे भी परेड में शामिल होंगे. चार बच्चों को मरणोपरांत यह पुरस्कार दिया गया है. बच्चों के वर्ग में लगभग 1200 लड़के और लड़कियां राजपथ पर रंगारंग नृत्य प्रदर्शन करेंगे. ये बच्चे दिल्ली के चार स्कूलों के होंगे. इस श्रेणी में भारत की मंगल ग्रह की कक्षा में 'मंगलायन' को स्थापित करने की स्थिति को दर्शाया जाएगा. इसके अलावा 'स्वच्छ भारत' पर नृत्य कायर्क्रम पेशकर दर्शकों का ध्यान इस तरफ आकर्षि‍त करने की कोशिश की जाएगी.

जांबाज मोटरसाइकिल दस्ता
सीमा सुरक्षा बल द्वारा मोटरसाइकिल प्रदर्शन 'जांबाज', परेड का एक प्रमुख आकर्षण होगा. संयोग से, अर्धसैनिक बल अभी अपनी स्वर्ण जयंती मना रहा है. वे मोटरसाइकिल पर हैरतअंगेज और साहसिक करतब दिखाएंगे. मोटरसाइकिल पर इन स्टंट्स के तहत बॉर्डर मैन सैल्यूट, सीढ़ी संतुलन, सांप्रदायिक सदभाव, मयूर राइडिंग, कलाबाजी, समानांतर बार, लोटस, सीमा प्रहरी और फ्लैग मार्च जैसे स्टंटों का प्रदर्शन करेंगे.

परेड के अंत में वायुसेना के विमानों के शानदार करतब देखने को मिलेंगे. यह फ्लाईपास्ट में चक्र के आकार से शुरुआत होगी. इसमें तीन एमआई-35 हेलीकॉप्टर विक आकार की उड़ान भरेंगे. इसके बाद हरक्यूलिस आकार बनेगा, जिसे तीन सी-130जे सुपरहरक्यूलिस विमान अंजाम देंगे. इसके बाद एक पोसिडन आकार बनेगा. इसमें एक पी-81 विमान शामिल होगा और इसके अगल-बगल दो मिग-29 केएस विमान उड़ान भरते रहेंगे. एक सी-17 ग्लोबमास्टर विमान ग्लोब का आकार बनाएगा. इस विमान के अगल-बगल दो एसयू-30 विमान होंगे.

लड़ाकू विमान भी होंगे शामिल
अगली पंक्ति लड़ाकू विमानों की होगी. इसमें पांच जगुआर विमान एरो हेड का आकार बनाते हुए उड़ेंगे. त्रिशूल के नाम से जाने जाने वाले अन्य पांच मिग-29 एयर सुपरियरिटी विमान आधार बनाते हुए उड़ान भरेंगे. इसके बाद स्क्वाड्रन 2 के तीन एसयू-30 एमकेएल विमान सांस थाम देने वाला त्रिशूल का आकार बनाएंगे. ये विमान सलामी मंच से गुजरेंगे और ऊपर उठेंगे. फिर त्रिशूल आकार बनाते हुए अलग हो जाएंगे. यह फ्लाईपास्ट सलामी मंच के ऊपर एसयू-30 एमकेएल विमान की सीधी उड़ान के साथ खत्म हो जाएगा. फिर राष्ट्रगान होगा और हवा में बैलून उड़ाने के साथ ही इस शानदार कायर्क्रम का समापन हो जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें