scorecardresearch
 

बंगाल में ‘जय श्रीराम’ पर बढ़ी रार, अब ममता बनर्जी को 10 लाख पोस्टकार्ड भेजेगी भाजपा

बीजेपी पश्चिम बंगाल की राजनीतिक लड़ाई को आगे ले जाने के मूड में है. अब बीजेपी जय श्रीराम लिखे 10 लाख पोस्टकार्ड ममता बनर्जी को भेजेगी. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जय श्रीराम नारे पर आपत्ति जता चुकी हैं.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल में 'जय श्रीराम' कहने को लेकर पर भाजपा और तृणमूल कांग्रेस की रार बढ़ती ही जा रही है. बीजेपी पश्चिम बंगाल की राजनीतिक लड़ाई को आगे ले जाने के मूड में है. अब बीजेपी जय श्रीराम लिखे 10 लाख पोस्टकार्ड ममता बनर्जी को भेजेगी. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जय श्रीराम नारे पर आपत्ति जता चुकी हैं.

पश्चिम बंगाल से बीजेपी के नवनिर्वाचित सांसद अर्जुन सिंह ने कहा कि सभी पोस्टकार्ड मुख्यमंत्री निवास भेजे जाएंगे. तृणमूल कांग्रेस में विधायक रहे और आम चुनाव से पहले बीजेपी में शामिल हुए सिंह ने टीएमसी नेताओं के बैठक स्थल के बाहर कथित रूप से जय श्रीराम के नारे लगाते बीजेपी कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज की निंदा की.

बीजेपी सांसद अर्जुन सिंह ने कहा कि जनता ने तृणमूल कांग्रेस को खारिज कर दिया है. तृणमूल के नेता व्यर्थ की बातें कर रहे हैं. तृणमूल कांग्रेस के सूत्रों के अनुसार पार्टी नेता उत्तर 24 परगना जिले के कचरापाड़ा में उन कार्यालयों को फिर से वापस लेने की रणनीति बनाने के लिए बैठक कर रहे थे, जिन पर कथित रूप से भाजपा कार्यकर्ताओं ने कब्जा कर रखा है. कचरापाड़ा, अर्जुन सिंह के बैरकपुर संसदीय क्षेत्र में ही आता है.

पश्चिम बंगाल सरकार में मंत्री ज्योतिप्रिय मलिक ने दावा किया कि अर्जुन सिंह और मुकुल रॉय के पुत्र शुभ्रांशु रॉय ने क्षेत्र में माहौल खराब करने काी  साजिश रची है. उन्होंने अपनी कार पर हमले की कोशिश का आरोप लगाते हुए कहा कि यह भाजपा की संस्कृति है.  हमने बंगाल में इस तरह की संस्कृति नहीं देखी है. पुलिस में शिकायत के संबंध में पूछने पर मलिक ने कहा कि हम इससे राजनीतिक रूप से निपटेंगे. शुभ्रांशु पिछले दिनों तृणमूल छोड़ बीजेपी में शामिल हो गए थे.

पुलिस ने किया लाठी चार्ज

पुलिस इस मामले में खुलकर कुछ बोलने से बच रही है. पुलिस सूत्रों के अनुसार टीएमसी नेताओं के बैठक स्थल के बाहर एकत्रित लोगों ने नारेबाजी की. टीएमसी की इस मीटिंग में ज्योतिप्रिय मलिक, मदन मित्रा, तापस रॉय, सुजीत बोस आदि नेता शामिल थे. पुलिस और आरएएफ ने पहले प्रदर्शनकारियों को समझाने का प्रयास किया और हालात बिगड़ते देख लाठी चार्ज किया. एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि तनाव पैदा होने के बाद बाजार बंद हो गया. इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है, लेकिन एक पुलिस पिकेट स्थापित किया गया है.

इससे पूर्व पश्चिम बंगाल बीजेपी ने सवालिया लहजे में ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा था कि क्या राज्य में जय श्रीराम का नारा लगाना अपराध है. बता दें कि गुरूवार को ममता बनर्जी तब नाराज हो गई थीं जब बैरकपुर लोकसभा क्षेत्र के भाटपारा से उनका काफिला गुजरते समय कुछ व्यक्तियों ने जय श्रीराम के नारे लगाए थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें