scorecardresearch
 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले, नहीं होगा भारतीय रेलवे का निजीकरण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रेलवे के निजीकरण की खबरों का खंडन करते हुए कहा कि किसी भी हाल में ऐसा नहीं होगा, हालांकि उन्होंने कहा कि विदेशी पैसे से रेलवे की तस्वीर बदली जाएगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रेलवे के निजीकरण की खबरों का खंडन करते हुए कहा कि किसी भी हाल में ऐसा नहीं होगा, हालांकि उन्होंने कहा कि विदेशी पैसे से रेलवे की तस्वीर बदली जाएगी. उन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र बनारस में गुरुवार को कहा कि रेलवे का निजीकरण किसी कीमत पर नहीं होगा.

पीएम मोदी ने रेल मंत्री सुरेश प्रभु की मौजूदगी में कहा कि पहले हम रेल को आगे बढ़ाएंगे, इससे देश भी आगे बढ़ेगा. उन्होंने साफ किया कि रेलवे का निजीकरण किसी सूरत से नहीं किया जाएगा. रेलवे के निजीकरण की खबरों को अफवाह करार देते हुए पीएम बोले, 'रेलवे हमारे लिए केवल यात्रा का साधन नहीं है बल्कि देश के विकास की रीढ़ है. एक उदाहरण के जरिए हम आपको समझाएंगे कि किस तरह से रेलवे के जरिए विकास संभव हो पाएगा. रेलवे के पास बिजली है, इन्फ्रास्ट्रक्चर है, बहुत बड़ा नेटवर्क है. गांवों में छोटे-छोटे स्टेशन हैं जहां पर दिन में एक बार ट्रेन जरूर पहुंचती है, अगर हम हर रेलवे स्टेशन पर दो स्किल डेवलपमेंट केंद्र खोलें तो हम रेलवे के संसाधनों को इस्तेमाल कर सकते हैं और इसके लिए एक रुपया भी अतिरिक्त खर्च नहीं करना पड़ेगा. भारतीय रेलवे चार रेलवे विश्वविद्यालय खोलेगा.'

रेलवे का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि मुझसे ज्यादा किसे रेलवे से इतना लगाव होगा? उन्होंने कहा कि सरकार रेलवे के विकास के लिए वचनबद्ध है और इसके लिए पैसे की कमी आड़े नहीं आएगी. मोदी ने साफ किया कि गरीबों के पैसे से रेलवे का विकास नहीं किया जा सकता है लिहाजा इसके विकास में अमीरों का पैसा लगाया जाएगा.

पीएम मोदी ने कहा, 'विदेशी पैसे से हम रेलवे की तस्वीर बदलेंगे. येन आए या डॉलर उससे क्या फर्क पड़ेगा? हमारा मकसद रेलवे का विकास है.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×