scorecardresearch
 

उद्धव ठाकरे निर्विरोध चुने गए महाराष्ट्र विधान परिषद के सदस्य

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को निर्विरोध रूप से महाराष्ट्र विधान परिषद का सदस्य चुन लिया गया है. महाराष्ट्र की विधान परिषद में जो 9 सदस्य निर्विरोध चुने गए हैं उनमें शिवसेना के दो, एनसीपी के दो, कांग्रेस के एक और बीजेपी के चार सदस्य शामिल हैं.

X
महाराष्ट्र में होने थे विधान परिषद के चुनाव (फाइल फोटो) महाराष्ट्र में होने थे विधान परिषद के चुनाव (फाइल फोटो)

  • महाराष्ट्र में 21 को होने थे एमएलसी के चुनाव
  • चुनाव आयोग को अब नहीं करानी पड़ेगी वोटिंग

महाराष्ट्र में विधान परिषद की 9 खाली सीटों पर 21 मई को चुनाव होने थे. लेकिन अब इसकी जरूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि 3 उम्मीदवारों ने अपना नाम वापस ले लिया है. जिसके बाद अब मैदान में सिर्फ 9 प्रत्याशी ही रह गए थे. इसी वजह से महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को निर्विरोध रूप से महाराष्ट्र विधान परिषद का सदस्य चुन लिया गया है.

बता दें कि उद्धव ठाकरे ने 28 नवंबर को राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी इसी वजह से उन्हें विधानसभा या विधान परिषद दोनों में से किसी एक सदन का सदस्य चुना जाना जरूरी हो गया था. क्योंकि 6 महीने की समयसीमा खत्म होने वाली थी. बता दें कि चुनाव के मैदान से अपना नाम वापस लेने की समयसीमा 14 मई तक ही थी. यही वजह है कि आज अतिरिक्त उम्मीदवारों ने अपने नाम वापस ले लिए जिस वजह से चुनाव की जरूरत भी खत्म हो गई.

यह भी पढ़ें: BJP ने दिग्गज नेताओं को नजर अंदाज कर MLC के लिए नए चेहरों पर खेला दांव

महाराष्ट्र की विधान परिषद में जो 9 सदस्य निर्विरोध चुने गए हैं उनमें शिवसेना के दो, एनसीपी के दो, कांग्रेस के एक और बीजेपी के चार सदस्य शामिल हैं. शिवसेना की तरफ से महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और नीलम गोरहे, एनसीपी की तरफ से शशिकांत शिंदे और अमोल मिटकरी और कांग्रेस की तरफ से रमेश कारद विधान परिषद के लिए चुने गए हैं.

ये थी दलगत स्थिति

महाराष्ट्र के कुल 288 सदस्यीय विधानसभा में सत्ताधारी महा विकास अघाड़ी को 170 विधायकों का समर्थन हासिल है. इनमें शिवसेना के 56 विधायक, एनसीपी के 54 विधायक, कांग्रेस के 44 विधायक और अन्य 16 विधायक उनके साथ हैं. वहीं, बीजेपी के नेतृत्व वाले विपक्ष के पास 115 विधायक हैं जबकि 2 AIMIM और एक मनसे के विधायक हैं.

यह भी पढ़ें: शिवसेना से उद्धव ठाकरे और नीलम गोरहे होंगे उम्मीदवार

विधान परिषद की एक सीट के लिए तकरीबन 32 वोटों की प्रथम वरियता के आधार पर जरूरत थी. इस लिहाज से माना जा रहा था कि महा विकास अघाड़ी छह सीटों को लेकर समीकरण बना रही थी. वहीं बीजेपी की नजर भी चार सीटों पर थी. लेकिन अब अघाड़ी के खाते में 5 और बीजेपी के पास 4 सीटें गई हैं.

यह भी पढ़ें: बांबे हाईकोर्ट का निर्देश- उद्धव को MLC मनोनीत करने के प्रस्ताव पर फैसला लें राज्यपाल

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें