scorecardresearch
 

आसाराम के बारे में क्‍या सोचती है एक ‘आम लड़की?’

33 वर्षीय स्वतंत्र चित्रकार, कलाकार और कार्टूनिस्ट कर्निका काहेन ने ‘आम लड़की’ की भावनाओं को आवाज देने के लिए एक कार्टून सीरीज बनायी है.

33 वर्षीय स्वतंत्र चित्रकार, कलाकार और कार्टूनिस्ट कर्निका काहेन ने ‘आम लड़की’ की भावनाओं को आवाज देने के लिए एक कार्टून सीरीज बनायी है.

आसाराम की भागमभागमुंबई की इस कार्टूनिस्‍ट ने कथित यौन-उत्‍पीड़न के आरोप में हवालात की हवा खा रहे तथाकथित संत आसाराम पर यह कार्टून सीरीज बनायी है. हालांकि वह खुद इस तरह के बाबाओं की भक्‍त नहीं हैं, लेकिन उन्‍होंने अपने आसपास के कई लोगों को अंधी भक्ति के नाम पर गलत काम करते हुए खूब देखा है.

आसाराम गिरफ्तारवह कहती हैं, मैं खुश हूं कि आखिरकार ऐसे लोगों की सच्‍चाई सामने आ रही है.

आसाराम का बेटा भी अश्‍लीलकाहेन ने अपने बनाए कार्टून्‍स को अपने फेसबुक पेज www.facebook.com/karnikakahen और ट्विटर के जरिए जारी किया है.

फर्जी संतों में डर तथाकथित संत आसाराम पर लगे आरोपों से प्रेरित इन कार्टूनों को उन्‍होंने ऐसे ‘संतों’ के खिलाफ अपनी निराशा और गुस्‍सा दर्शाने के लिए बनाया है. वह कहती हैं उन्‍होंने निर्णय लिया है कि वे भारत की एक ‘आम लड़की’ का प्रतिनिधित्‍व करने के लिए आगे आएंगी, क्‍योंकि हम लोग कार्टूनों में कई आम आदमियों को पहले ही देख चुके हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें