scorecardresearch
 

अन्ना आंदोलन में जान देने वाले को भूल गई टीम केजरीवाल

एक शख्स जो अन्ना के समर्थन में खड़ा हुआ वो आज दिल्ली का मुख्यमंत्री है, वही दूसरा शख्स जिसने अन्ना के आन्दोन में भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ते हुए शहादत दे दी, उसका परिवार आज दर-दर की ठोकरे खा रहा है.

प्रशांत भूषण, अन्ना और केजरीवाल प्रशांत भूषण, अन्ना और केजरीवाल

एक शख्स जो अन्ना के समर्थन में खड़ा हुआ वो आज दिल्ली का मुख्यमंत्री है, वही दूसरा शख्स जिसने अन्ना के आन्दोन में भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ते हुए शहादत दे दी, उसका परिवार आज दर-दर की ठोकरे खा रहा है. एक ही आन्दोलन से अरविंद केजरीवाल मुख्यमंत्री बने तो दिनेश यादव का परिवार आज भी बिहार के एक गांव में दाने-दाने को मोहताज है. दिनेश यादव वो शख्स था जिसने 2011 के अन्ना के अगस्त आन्दोलन में अन्ना के सामने 21 अगस्त को उसी रामलीला मैदान में आत्मदाह कर लिया था, उसी मैदान में जहां शपथ लेकर केजरीवाल मुख्यमंत्री बने हैं.

पटना से महज 45 किमी. दूर पालीगंज के सर्फुद्दीनपुर गांव में दिनेश यादव का परिवार दाने-दाने को मोहजात है. इस परिवार ने अपने मुखिया को अन्ना आंदोलन में खो दिया. दिनेश की पत्नी करके परिवार का पेट पालती है. जब दिनेश की मौत हुई तब बड़े-बड़े लोग गांव आए, उसे मदद का भरोसा दिया, पर अब जबकि दिल्ली में केजरीवाल की सरकार बन गई तो इस गांव में दिनेश के परिवार का हाल लेने ना तो अन्ना के लोग आए ना ही केजरीवाल के लोग.

दिनेश की पत्नी ममतिया देवी कहती है- 'बड़े लोग हैं, बड़ी-बड़ी बात करते हैं, कोई पूछने नहीं आया, दूसरों के घर में काम करती हूं, तभी खाना मिलता है, काम नहीं करती तो परिवार भूखा रहता है.'

ये परिवार सुर्खियों में तब आया जब 21 अगस्त 2011 को दिनेश यादव ने रामलीला मैदान में अन्ना के अनशन में ही आत्मदाह करने की कोशिश की और 8 दिन बाद दिल्ली के अस्पताल में उसने दम तोड़ दिया. दो साल से ज्यादा गुजर गए पर इस परिवार की सुध लेने ना तो टीम अन्ना आई ना ही टीम केजरीवाल. परिवार के मुताबिक अन्ना आन्दोलन में जोश में भरे दिनेश ने अन्ना को भूखा देखकर खुद को आग लगा ली थी.

दिनेश के भाई बृजमोहन यादव के मुताबिक 'वो हमेशा भ्रष्टाचार से लड़ने की बात करता था. अन्ना की बात करता था, उसने देखा कि अन्ना की नहीं सुनी जा रही तो वो बिना बताए दिल्ली चला गया और उसने आत्मदाह कर लिया. लेकिन उसे पूछने कोई नहीं आया.'

दिनेश यादव के 5 छोटे बच्चे हैं जो स्कूल नहीं जा पाते. मां के पास पैसा नहीं. परिवार में बड़ा बेटा अन्ना आंदोलन की भेट चढ़ गया. बूढी मां के आज भी आंसू नहीं थम रहे. पर जैसे ही दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार बनी इस परिवार की आस जगी थी. पर किसी ने कोई सुध नहीं ली. ये परिवार नहीं चाहता कि कोई उसे भीख में पैसे दे, पर वो दिनेश की स्मारक दिल्ली में चाहता है ताकि आन्दोलन में उसकी भूमिका भी याद की जाए.

दिनेश के दोस्त विभूति याद करते हुए कहते है, 'हम जब उसे दिल्ली के अस्पताल में जली हालत में मिले तो उसने कहा था कि उसने भ्रष्टाचार के खिलाफ ये काम किया है.

बहरहाल दिनेश को लोग शायद ही याद करें पर जो उम्मीद टीम अन्ना और केजरीवाल से इस परिवार को थी, वह टूट गई है, परिवार को ना तो आर्थिक सहायता मिली, ना ही कोई दूसरी मदद पर ये परिवार. इतनी उम्मीद जरूर लगा रखी है कि उसे उसके शहादत के लिए याद किया जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें