scorecardresearch
 

पत्रकार ने मोदी पर पूछा सवाल तो शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद ने जड़ दिया थप्पड़

द्वारका पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद से सवाल पूछना एक पत्रकार को महंगा पड़ गया. जबलपुर में एक पत्रकार ने जैसे ही शंकराचार्य स्वामी स्वरुपानंद से ये सवाल पूछा कि नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल में बेहतर पीएम कौन? इसी पर भड़क गए और पत्रकार को थप्पड़ जड़ दिया.

द्वारका पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरुपानंद द्वारका पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरुपानंद

द्वारका पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद से सवाल पूछना एक पत्रकार को महंगा पड़ गया. जबलपुर में एक पत्रकार ने जैसे ही शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद से ये सवाल पूछा कि नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल में बेहतर पीएम कौन? इसी पर भड़क गए और पत्रकार को थप्पड़ जड़ दिया. आपको बता दें कि स्वामी स्वरूपानंद दो पीठों के शंकराचार्य हैं- द्वारका पीठ और ज्योतिष पीठ.

सफाई में क्या बोले स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती
मीडिया में वीडियो सामने आने के बाद स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने सफाई दी. उन्होंने कहा, 'एक आदमी ने हमसे पूछा मोदी के बारे में. हमने एक थप्पड़ लगाया. मैंने लगाया थप्पड़. हमने उससे ये कहा कि तुम उस आदमी को चर्चा में लाने के लिए बात कर रहे हो. राजनीतिक लोग इस तरह के होते हैं कि चाहे बुराई करो. चाहे तारीफ करो उनकी चर्चा होनी चाहिए.' स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा, 'मोदी चुने जाएं. प्रधानमंत्री बनें, हमें कोई आपत्ति नहीं है. लेकिन वह सही-सही जनता को बताएं कि वह क्या चाहते हैं.'

जबलपुर में शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती के पत्रकार को थप्पड़ मारने के मामले में कांग्रेस उनके बचाव में आ गई है. कांग्रेस इस बात को मानने को तैयार नही है कि स्वरूपानंद ने थप्पड़ मारा है. दूसरी ओर बीजेपी का कहना है कि धर्माचार्यों से ऐसी अपेक्षा नहीं है.

मध्य प्रदेश के कांग्रेस नेता मानक अग्रवाल ने कहा, 'साधु-संतों से राजनैतिक सवाल नही करना चाहिए धार्मिक सवाल करना चाहिए. मैं समझता हूं इससे बचना चाहिए. कभी-कभी धर्म से हटकर सवाल पूछे जाने से गुस्सा आ जाता है. स्वरूपानंद जी गुस्सा नहीं करते हैं. आ गाया होगा. मोहब्बत में कह दिया. राजनैतिक सवाल नहीं करो. थप्पड़ नहीं मारा था.'

दूसरी तरफ मध्यप्रदेश बीजेपी के प्रवक्ता हितेश वाजपेयी ने कहा, 'धर्म, नीति, सत्य के ध्वज वाहक होते हैं धर्माचार्य और क्षमा के प्रतीक होते हैं. हमें उनसे ज्यादा उम्मीदें होती हैं. मीडिया का कोई भी सवाल बेकार का नहीं हुआ करता. जवाब जरूर महत्वपूर्ण होता है.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें