scorecardresearch
 

सुनंदा पुष्कर की मौत की मिस्ट्री सुलझाने के लिए सुब्रमण्यम स्वामी ने दायर की जनहित याचिका

उन्होंने कहा कि इस पूरी जांच पर कोर्ट की नज़र रहे. साथ ही इस मामले से जुड़े उन लोगों से भी बातचीत की जाए जिनकी सुनंदा की मौत से कुछ समय पहले बातचीत हुई थी. कार्य मे लगाई गई जनहित याचिका पर हाई कोर्ट एक दो दिन मे सुनवाई कर सकता है.

सुब्रमण्यम स्वामी सुब्रमण्यम स्वामी

बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने दिल्ली हाई कोर्ट मे जनहित याचिका लगाई है कि सुनंदा पुष्कर की मौत से जुड़े मामले की जांच सीबीआई को सौंपी जाए. सीबीआई की अगुवाई में एसआईटी गठित की जाए, जो इस मामले के हर पहलू की जांच करे.

उन्होंने कहा कि इस पूरी जांच पर कोर्ट की नज़र रहे. साथ ही इस मामले से जुड़े उन लोगों से भी बातचीत की जाए जिनकी सुनंदा की मौत से कुछ समय पहले बातचीत हुई थी. कार्य मे लगाई गई जनहित याचिका पर हाई कोर्ट एक दो दिन मे सुनवाई कर सकता है.

सुब्रमण्यम स्वामी ने आज तक से बातचीत मे कहा कि दिल्ली पुलिस को शशि थरूर को गिरफ्तार करके पूछताछ करने में संकोच लगता है. पुलिस के बस की बात भी नहीं है, इसीलिए मैंने कोर्ट मे याचिका लगाई है कि कोर्ट सीबीआई को आदेश करे और SIT बनाकर जांच हो. क्योंकि सुनंदा की मौत को लगभग साढ़े तीन साल का वक़्त गुजर चुका है, लेकिन उसकी मौत की वजह अभी भी मिस्ट्री बनी हुई है.

स्वामी ने अपनी याचिका में कुछ अहम सवाल उठाए हैं. जैसे सुनंदा को जहर किसने दिया? स्वामी का कहना है कि सरकार कुछ नहीं कर रही है, और करेगी भी तो कहा जायेगा कि राजनीति से प्रेरित होकर कर रही है. इसलिए अच्छा है कोर्ट ही इस पर निर्णय करें. उन्होंने कहा कि ये इंटरनेशनल मामला है इसलिए इसकी जांच सीबीआई ही कर सकती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें