scorecardresearch
 

मुंबई में धर्मगुरु डॉ. बुरहानुद्दीन के अंतिम संस्कार में भगदड़, 18 की मौत

मुंबई में बोहरा समुदाय के धर्मगुरु डॉ. बुरहानुद्दीन के अंतिम संस्कार में भगदड़ मच गई है. गिरगांव में हुए इस हादसे में 18 लोगों की मौत हो गई है. 40 लोग घायल हुए हैं जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बताया जा रहा है कि मौत का आंकड़ा बढ़ भी सकता है.

धर्मगुरु डॉ. बुरहानुद्दीन धर्मगुरु डॉ. बुरहानुद्दीन

मुंबई में बोहरा समुदाय के धर्मगुरु डॉ. बुरहानुद्दीन के अंतिम संस्कार में भगदड़ मच गई है. गिरगांव में हुए इस हादसे में 18 लोगों की मौत हो गई है. 40 लोग घायल हुए हैं जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बताया जा रहा है कि मौत का आंकड़ा बढ़ भी सकता है.

बुरहानुद्दीन का निधन शुक्रवार को दक्षिणी मुंबई स्थित उनके निवास स्थान पर दिल का दौरा पड़ने से हुआ था. वह 102 साल के थे. बताया जा रहा है कि बुरहानुद्दीन के अंतिम दर्शन के लिए हजारों की तादाद में अनुयायी आए थे. भगदड़ मालाबार हिल इलाके में शुक्रवार देर रात करीब 1 बजे मची जहां के सैफी महल में बुरहानुद्दीन का पार्थिव शरीर रखा गया है.

पुलिस का कहना है कि लोगों की मौत भगदड़ के कारण नहीं बल्कि घुटन होने के कारण हुई है.

उनके निधन के खबर सुनते ही उनके लाखों अनुयायियों ने मालाबार हिल इलाके में स्थित उनके घर की ओर रुख करना शुरू कर दिया था. भारी संख्या में लोगों को पहुंचने से वहां अफरातफरी मच गई.

हादसे के बाद भी अपने धर्मगुरु की अंतिम यात्रा के दर्शन के लिए बड़ी संख्या में लोग आ रहे हैं. आज उनका अंतिम संस्कार किया जाना है. समुदाय के एक प्रवक्ता ने बताया कि बुरहानुद्दीन कुछ ही हफ्तों बाद अपना 103वां जन्मदिन मनाने वाले थे.  डॉ. बुरहानुद्दीन दाउदी बोहरा समाज के 52वें धर्मगुरु थे. सूरत में जन्मे बुरहानुद्दीन अपने पिता तहेर सैफुद्दीन के बड़े बेटे थे. 1965 में पिता के निधन के बाद उन्होंने अपने पिता का उत्तराधिकार संभाला.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें