scorecardresearch
 

बोले सोमनाथ चटर्जी- 'गलत ढंग से जस्टिस गांगुली को बनाया जा रहा है निशाना'

लॉ इंटर्न के साथ यौन शोषण किए जाने के आरोपों में घिरे सुप्रीम कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस अशोक कुमार गांगुली को जुरिस्ट और पूर्व लोकसभा स्पीकर सोमनाथ चटर्जी का साथ मिला है. चटर्जी ने कहा है कि जस्टिस गांगुली के मामले में कुछ बातें संदिग्ध हैं और उन्हें गलत ढंग से निशाना बनाया जा रहा है.

सोमनाथ चटर्जी सोमनाथ चटर्जी

लॉ इंटर्न के साथ यौन शोषण किए जाने के आरोपों में घिरे सुप्रीम कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस अशोक कुमार गांगुली को जुरिस्ट और पूर्व लोकसभा स्पीकर सोमनाथ चटर्जी का साथ मिला है. चटर्जी ने कहा है कि जस्टिस गांगुली के मामले में कुछ बातें संदिग्ध हैं और उन्हें गलत ढंग से निशाना बनाया जा रहा है.

सोमनाथ के मुताबिक, 'ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है. मुझे इस बात का कोई अंदाजा नहीं कि सुप्रीम कोर्ट के इस मामले में पड़ने का क्या सोर्स ऑफ अथॉरिटी है. इस केस में कोई औपचारिक शिकायत नहीं है.'

'केस में कुछ बातें संदिग्ध'
सोमनाथ ने इस पूरे मामले पर ही सवाल उठाते हुए कहा, 'इस मामले में अभी तक कुछ भी साफ तौर पर नहीं मिला है. कुछ बातें संदिग्ध हैं.' उन्होंने कहा, 'अगर पीड़िता बयानों के समर्थन में कुछ सबूत मिलते हैं को मुझे लगता है कि बाकी जजों के साथ भी ऐसा हो सकता है. क्या वो सुरक्षित हैं?'

'महिला आयोग का मतलब ये नहीं...'
राष्ट्रीय महिला आयोग पर निशाना साधते हुए सोमनाथ चटर्जी ने कहा, 'राष्ट्रीय महिला आयोग का मतलब ये नहीं कि आप किसी नतीजे पर आ सकते हैं. इस देश में कोई भी सुरक्षित नहीं है.'

'बहुत पहले से जानता हूं जस्टिस गांगुली को'
जस्टिस गांगुली का बचाव करते हुए उन्होंने कहा, 'फिलहाल इस मामले में कोई सबूत नहीं है और जस्टिस गांगुली को गलत ढंग निशाना बनाया जा रहा है.' उन्होंने कहा, 'मेरे लिए इस पर विश्वास कर पाना मुश्किल है कि अशोक ऐसा कर सकता है. मैं उसे बहुत पहले से जानता हूं... लेकिन फिर भी इस मामले में फेयर ट्रायल होना चाहिए और फिर ही किसी को सजा मिलनी चाहिए.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें