scorecardresearch
 

ऋण महंगा होने की आशंका से सेंसेक्स 111 अंक टूटा

रिजर्व बैंक द्वारा मंगलवार को मौद्रिक नीति की समीक्षा में ब्याज दरें बढ़ाए जाने की आशंका के बीच स्थानीय बाजारों में सोमवार को बिकवाली का दबाव बढ़ने से शेयर बाजारों में तीन दिनों से जारी तेजी थम गई और बीएसई सेंसेक्स 111 अंक टूटकर बंद हुआ.

X

रिजर्व बैंक द्वारा मंगलवार को मौद्रिक नीति की समीक्षा में ब्याज दरें बढ़ाए जाने की आशंका के बीच स्थानीय बाजारों में सोमवार को बिकवाली का दबाव बढ़ने से शेयर बाजारों में तीन दिनों से जारी तेजी थम गई और बीएसई सेंसेक्स 111 अंक टूटकर बंद हुआ.

पिछले तीन दिन में करीब 253 अंक मजबूत होने वाला सेंसेक्स 110.93 अंक टूटकर 18,020.05 अंक पर बंद हुआ. वहीं नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी 30.50 अंक की गिरावट के साथ 5,418.60 अंक पर बंद हुआ. बीएसई सेंसेक्स में शामिल 30 में से 17 कंपनियों के शेयर गिरावट के साथ, जबकि 12 कंपनियों के शेयर मजबूती दर्ज कर बंद हुए. हिंदुस्तान युनिलीवर पिछले बंद स्तर पर स्थिर रहा.

अमेरिकी कंपनियों के बेहतर वित्तीय नतीजों के मद्देनजर अन्य एशियाई बाजारों में तेजी का रुख रहा. लेकिन यूरोपीय बाजारों के कमजोर रुख के साथ खुलने का नकारात्मक असर घरेलू बाजारों पर देखा गया. यूरोपीय बैंकों के स्वास्थ्य को ले कर वहां अब भी चिंता बनी हुई है जबकि हाल की एक जांच में ज्यादातर बैंकों की स्थिति को ठीक घोषित किया गया है.

मारुति सुजुकी के तिमाही लाभ में अप्रत्याशित 20 प्रतिशत की गिरावट और यूबीएस द्वारा मारुति के शेयरों की रेटिंग ‘खरीदने लायक’ से घटाकर ‘तटस्थ रहने लायक’ किए जाने से मारुति सुजुकी के शेयर भाव में 12.3 प्रतिशत की गिरावट आई और यह 167.20 रुपये टूटकर 1,191.05 रुपये पर बंद हुआ. मारुति की अगुवाई में अन्य आटो कंपनियों के शेयरों में गिरावट दर्ज की गई. हीरो होंडा मोटर्स का शेयर 146.05 रुपये टूटकर 1,811.85 रुपये पर बंद हुआ.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें