scorecardresearch
 

फारूक अब्दुल्ला की सीधी बात- कश्मीर का हल निकालें मोदी-इमरान तो मिलेगा नोबेल

फारूक अब्दुल्ला ने 'आजतक' के खास कार्यक्रम 'सीधी बात' में पाकिस्तान के भावी पीएम इमरान खान, भारत के पीएम नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कश्मीर पर बात की.

जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला

नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष और जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला ने पाकिस्तान के भावी प्रधानमंत्री इमरान खान को लेकर बड़ी बात कही है. उन्होंने कहा कि इमरान भारत के दिल को समझते हैं, इसलिए उनसे उम्मीद रखनी चाहिए.

फारूक अब्दुल्ला ने 'आजतक' के खास कार्यक्रम 'सीधी बात' में श्वेता सिंह से कहा कि मोदी और इमरान अगर कश्मीर के मसले का हल निकाल लेंगे तो इन्हें नोबेल पुरस्कार भी मिलेगा और दुनिया भी हमेशा के लिए याद रखेगी. उन्होंने कहा कि वह क्रिकेटर इमरान खान के फैन रहे हैं, उन्हें इमरान की जबरदस्त गेंदबाजी पसंद थी. फारूक ने कहा कि इमरान के अंदर खेल भावना थी और वह कभी किसी टीम के खिलाड़ी से गुस्सा नहीं होते थे, उन्होंने खेल की दुनिया में मोहब्बत कायम की थी.

कश्मीर मसले का आज तक हल न निकल पाने पर फारूक ने कहा कि हमारी किस्मत खराब थी. उन्होंने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी और मनमोहन सिंह के समय में उम्मीद थी कि कश्मीर मसला हल हो जाएगा, पर कहीं न कहीं अटक जाता है, शायद हमें दुआ ज्यादा मांगनी पड़ेगी कि सब ठीक हो जाए.

जम्मू कश्मीर में बीजेपी-पीडीपी के शासन पर उन्होंने कहा कि यह तो जम्मू-कश्मीर के लोग अगले चुनावों में ही बताएंगे कि पीडीपी और बीजेपी ने कैसा शासन किया. राज्यपाल शासन पर उन्होंने कहा कि सूबे में राज्यपाल शासन हमेशा नहीं रह सकता, राज्यपाल सभी के हित के लिए काम करते हैं, इसलिए इस शासन में पत्थरबाजी या विद्रोह देखने को नहीं मिला है. उन्होंने कहा कि सबके साथ बराबर का सलूक होगा तो लोग खुश रहेंगे.

पाकिस्तान आम चुनाव में आतंकी हाफिज सईद के हारने पर उन्होंने कहा कि चुनावों में हाफिज सईज जैसी ताकतें कितनी भी खड़ी हो जाएं नहीं जीत सकती, क्योंकि लोग जानते हैं कि उन्हें क्या चाहिए. चाहे ऐसी ताकतें कितना भी मीडिया का इस्तेमाल कर लें वे सफल नहीं हो सकतीं.

कश्मीर में लोगों के हिंसक होने पर उन्होंने कहा कि एक जमाने में हम मुर्गा भी हलाल नहीं करते थे, कसाई को ढूंढना पड़ता था, खून से घबराते थे, अब देखिए कि शुजात बुखारी जैसे पत्रकार का कत्ल कर दिया गया. भारत सरकार को इसकी जांच करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि मारने वाला कौन हैं, कौन खामोश करा रहा है, किसी को इसकी खबर नहीं है. मारने वाले को तो पकड़ लिया, पर मरवाया किसने यह पता ही नहीं चला.

जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम ने कहा कि हमें दोनों मुल्कों की दोस्ती के लिए उन जमातों, उन संस्थाओं को नंगा करना है जो ये काम करवा रही हैं. उन्होंने कहा कि जब बीजेपी और पीडीपी में गठबंधन हुआ तो राज्य के तीनों इलाकों- जम्मू, कश्मीर और लद्दाख की एकता का ध्यान नहीं रखा गया. फारूक ने कहा कि देश की एकता की तरह राज्य के इन तीनों हिस्सों की एकता जरूरी है. उन्होंने कहा कि शेर-ए-कश्मीर में पीएम मोदी ने ऐसी बातें कहीं कि जो शायद वहां के लोग सुनना नहीं चाहते थे. पीएम कुछ अच्छी बातें कहना चाहते थे शायद उनके मन से वे बातें नहीं निकल सकीं. वहां पर महबूबा मुफ्ती ने जो सवाल किए थे, पीएम उनका जवाब दे सकते थे, लेकिन ऐसा नहीं किया. ऐसे कौन से सवाल थे, पूछने पर अब्दुल्ला इसे टाल गए.

पीएम मोदी कैसा काम कर रहे हैं, फारूक अब्दुल्ला ने इस पर कहा कि 70 साल पहले जो पीएम थे, उन्होंने भी काम किया है और मौजदा पीएम ने भी काम किया है. उनके मुताबिक, हर पीएम अच्छे काम करने की कोशिश करता है. पीएम मोदी की पहल से कई चीजों में फायदे हुए, लाल किले से कौन पीएम बोल सकता है कि शौचालय बनाने हैं, देश की जरूरत थी, इसलिए उन्होंने ऐसा कहा.

उन्होंने कहा कि माहौल ठीक होते ही कश्मीर में चुनाव होने चाहिए, हालांकि इससे पहले गवर्नर को शांति कायम करने का मौका देना चाहिए. इससे लोगों के दिल में अच्छी उम्मीद उभर आएगी. एनडीए में शामिल होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि अभी एनडीए में आने का मौका नहीं है. हालांकि, इसके साथ ही उन्होंने जोड़ा कि सियासत में कोई अछूत नहीं है. राजनेताओं को लोगों के लिए फैसला लेना पड़ता है. उन्हें क्या सुविधा होगी, क्या फायदा होगा, ये सब देखना पड़ता है. अब्दुल्ला ने कहा कि हमने बहुत धक्के खाए हैं. इन धक्कों से निकलने के लिए जो जरूरी होगा वह करेंगे, लोगों के दुख-दर्द को दूर करना ही हमारी कोशिश होनी चाहिए.

कांग्रेस के नेतृत्व में गठबंधन पर क्या बोले फारूक 

2019 में मोदी को चुनौती देने के लिए कांग्रेस के नेतृत्व में गठबंधन पर बोलते हुए फारूक ने कहा कि मैं नहीं समझता हूं कि कांग्रेस के नेतृत्व में गठबंधन हो सकता है.  हां, थर्ड फ्रंट जरूर बन सकता है. उन्होंने कहा कि अलग-अलग फ्रंट बनाने से देश कमजोर होगा. थर्ड फ्रंट का नेता कौन होगा इस सवाल पर उन्होंने कहा कि  गठबंधन का चेहरा अपने आप उभर आता है.

इसके आगे फारूक ने कहा कि किसी को नहीं पता था कि कभी मोदी पीएम बनेंगे. हां, संसद में जवाहर लाल नेहरू ने एक बार अटल बिहारी को कहा था कि तुम पीएम बनोगे, पर मेरी ऐसी पारखी नजर नहीं है. मैं बता नहीं सकता कि गठबंधन का चेहरा कौन होगा. संसद में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के पीएम मोदी से गले मिलने पर उन्होंने कहा कि हर किसी की अपनी भावनाएं होती हैं, हर किसी का अपना तरीका होता है, उनका भी समय आएगा, लेकिन कब आएगा मुझे नहीं पता. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें