scorecardresearch
 

पड़ोस में सुरक्षा चिंता पर खास ध्‍यान दें आईएफएस अधिकारी: नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विदेश सेवा के अधिकारियों से दुनिया को भारत की ताकत से अवगत कराने के लिए उत्प्रेरक एजेंट बनने का आह्वान किया है. प्रधानमंत्री ने व्‍यापार और वाणिज्‍य संबंधों पर जोर देते हुए कहा कि पड़ोस में सुरक्षा से जुड़ी चिंताएं पहली प्राथमिकता होनी चाहिए.

IFS (2012 बैच) के अधिकारियों के साथ नरेंद्र मोदी IFS (2012 बैच) के अधिकारियों के साथ नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विदेश सेवा के अधिकारियों से दुनिया को भारत की ताकत से अवगत कराने के लिए उत्प्रेरक एजेंट बनने का आह्वान किया है. प्रधानमंत्री ने व्‍यापार और वाणिज्‍य संबंधों पर जोर देते हुए कहा कि पड़ोस में सुरक्षा से जुड़ी चिंताएं पहली प्राथमिकता होनी चाहिए.

मोदी ने भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) के 2012 बैच के प्रशिक्षु अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि व्यापार और वाणिज्य तथा तकनीक हस्तांतरण पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए. उन्होंने युवा अधिकारियों से कहा कि वे भारत के इतिहास और दुनिया के विभिन्न देशों के साथ इसके ऐतिहासिक संबंधों से अच्छी तरह परिचित रहें. साथ ही वे भारत का गौरव बढ़ाने के लिए प्रवासी भारतीयों को भी प्रेरित करें.

गुरुवार को आईएफएस 2012 बैच के 29 प्रशिक्षु अधिकारियों ने प्रधानमंत्री से मुलाकात की. प्रधानमंत्री निवास पर हुई इस मुलाकात के दौरान राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल, प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव नृपेन्द्र मिश्रा और विदेश सचिव सुजाता सिंह भी मौजूद थीं. प्रधानमंत्री मोदी की अखिल भारतीय सेवा के अधिकारियों के किसी बैच की यह पहली मुलाकात है.

मोदी ने प्रशिक्षु अधिकारियों को विश्व में भारत के प्रतिनिधियों के रूप में उनके चयन पर बधाई देते हुए कहा, चूंकि वे दुनियाभर में अपना कार्य करते हैं इसलिए उनके काम में भारत की छवि और आत्म सम्मान प्रतिबिंबित होना चाहिए. मोदी ने कहा कि निर्यात को बढ़ावा देने के लिए भारत को त्रुटि रहित विनिर्माण और पैकिंग तथा प्रस्तुति पर ध्यान देने की जरूरत है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें