scorecardresearch
 

व्यंग्य: राहुल गांधी के लिए लड़की देखने विदेश दौरे पर जाते हैं मोदी

हम आपको बताते हैं कि पीएम मोदी किन वजहों से बार-बार विदेश जाते हैं.

X
बुरा न मानो व्यंग्य है बुरा न मानो व्यंग्य है

'हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है, तुम्हीं कहो कि ये अंदाज-ए-गुफ्तुगू क्या है.' ग़ालिब का ये शेर अगर किसी पर सबसे सही बैठता है तो वो हैं मोदी जी के विरोधी. हर बात पर घेर लेते हैं. कढ़ाई वाला सूट हो या विदेश यात्रा. कभी किसी ने तह तक जाने की कोशिश ही नहीं की. सूट वाला राज तो टेलर जाने लेकिन हम आपको बताते हैं कि पीएम मोदी किन वजहों से बार-बार विदेश जाते हैं.

चूहे छोड़ने: एक तो हम लोगों की आदत इतनी गंदी है कि अपने घर के चूहों को गली के कोने में छोड़ आते हैं. चूहा किसी और के घर घुस जाता है. तो स्वच्छ भारत अभियान की सफलता के लिए मोदी जी सबके घरों के चूहे पकड़कर विदेशों में छोड़ आते हैं. वो क्या है न, विदेशों में चूहे पालना भी ट्रेंड में है. इसे मोदी जी चूहों के बड़े निर्यातक देश के रूप में भारत के उभरने के नजरिए से भी सोचते हैं.

राहुल गांधी के लिए लड़की देखने: देश का पीएम वही होता है तो दुखियारो का दर्द समझे. घर का मासूम बालक रोता किसे अच्छा लगता है. राहुल गांधी की उम्र देश में कांग्रेस सीटों जितनी ही हो चली है. अब देश की लड़कियां तो पहले से ही फवाद खान को लेकर Awww Myy Gwaad टाइप हो चुकी हैं. ऐसे में मोदी जी पारखी नजरों के साथ विदेशी टूर के बहाने राहुल बाबा के लिए सुकन्या ढूढ़ रहे हैं. ब्याह करेगा इंडिया तभी तो बढ़ेगा इंडिया.

घर में रहोगे तो बर्तन खनकेंगे ही: एक तो बहुमत की सरकार बन जाए तो मजाक मजाक में इत्ते सांसद इकट्ठे हो जाते हैं कि एक मंगल बाजार तो सांसदों के साथ ही लगाया जा सकता है. ऊपर से आडवाणी एंड जोशी ब्रदर्स. उफ्फ. बड़े बुजुर्गों का मायूस चेहरा देखने से अच्छा है बाहर निकल लो. वो बात अलग है मोदी जी को फेसबुक पर फीलिंग ऑसम लिखने की बजाय फ्रूटफूल टाइप जारगन गिराना पड़ता है.

विवादित बयान वाले सांसदों की दवा: सरकार बनने के बाद अगर मोदी जी की छवि पर किसी ने सबसे ज्यादा बबलगम चिपकाई है तो वो हैं बीजेपी सांसद. गिरिराज, साक्षी महाराज, साध्वी निरंजन ज्योति ही कुछ स्वर्णरजित नाम हैं. बची कुची कसर 'घर वापसी' ने पूरी कर दी. तो बस मोदी जी, इन सांसदों के बड़े बोले बयानों बाली लाइलाज बीमारी की दवा ढूंढ़ने बाहर जाते हैं. वैसे भी बचपन से कहा जाता है विदेशों में हर चीज का इलाज है.

केआरके, स्वामी, दिग्विजय सिंह और संबीत पात्रा के लिए मन्नत मांगने: हर देश का एक अपना इतिहास होता है. पेरिस में भी एक जगह है जहां ताला लगाओ और मन्नत मांगो तो पूरी हो जाती है. ऐसे ही हर देश में मन्नत मांगने का ट्रेंड है. मोदी जी हर देश जाकर केआरके, सुब्रमण्यम स्वामी, दिग्विजय सिंह और संबीत पात्रा के मुंह पर ताला लग जाए, इसके लिए मन्नत मांगने जाते हैं. क्या पता किस देश में मांगी गई मन्नत काम कर जाए और ये लोग मुंह से रायता गिराना और फालतू का फैलाना बंद कर दें. वो बात अलग है मन्नत पूरी होने पर मोदी जी को एक बार फिर उस देश जाना पड़ेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें