scorecardresearch
 

व्यंग्य: राहुल को जल्दी बुलाने के लिए मनमोहन ने लिखी चिट्ठी

राहुल गांधी वैसे तो छुट्टी बढ़ाने के मूड में थे , लेकिन जब उन्हें इसकी अनुमित नहीं मिली तो वो लौटने को तैयार हो गए. फिलहाल उनके 20 अप्रैल तक लौटने की बात कही जा रही है.

X
मनमोहन सिंह मनमोहन सिंह

राहुल गांधी वैसे तो छुट्टी बढ़ाने के मूड में थे , लेकिन जब उन्हें इसकी अनुमित नहीं मिली तो वो लौटने को तैयार हो गए. फिलहाल उनके 20 अप्रैल तक लौटने की बात कही जा रही है. इस बीच मनमोहन सिंह ने पत्र लिख कर उन्हें थोड़ा पहले लौटने की गुजारिश की है. चिट्ठी की एक कॉपी हमारे हाथ लगी है जिसे हम आपसे शेयर कर रहे हैं.

प्रिय राहुल जी,
सुन कर बड़ी खुशी हुई कि आप आ रहे हैं. ये पत्र आपसे एक गुजारिश करने के लिए लिख रहा हूं. पत्र तो मैं काफी पहले से लिखना चाह रहा था, लेकिन अभी अभी मुझे इसकी इजाजत मिली है.

मुझे तो इसकी उम्मीद तभी हो गई थी जब मैडम ने अन्ना जी को चिट्ठी लिखी. मैं पूछना चाह रहा था लेकिन जब तक वो कोई पत्र न लिखें मैं ये जुर्रत कैसे कर सकता हूं. अभी अभी पटेल साहब बोल कर गए हैं कि नपे तुले शब्दों में पत्र लिख सकता हूं. आप तो जानते ही हैं मुझे फिजूल का बोलने की आदत तो है नहीं. इसलिए थोड़े में लिखे को आप ज्यादा समझ लेना. मुझे आपकी समझ पर सबसे ज्यादा भरोसा है - बाकियों के बारे में फिक्र करने की जरूरत भी नहीं है.

अब अगर आप भी अनुमति दे देते तो आपको लेने भी आ जाता. वैसे भी अब प्रेशर कम ही रहता है. साइन तो तब भी करने पड़ते थे - अब भी करने पड़ रहे हैं. पहले अफसर कराते थे - अब वकील कराते हैं. बस आप हुक्म कीजिए - जहां कहेंगे बंदा हाजिर मिलेगा.

असल बात पर आएं, उससे पहले आपको एक जानकारी देनी थी. मुमकिन है आपके लोगों ने बताया हो लेकिन धर्म तो मेरा भी बनता है. आगे समाचार ये है कि यूपी में एक दाढ़ीवाले युवक के लापता होने के पोस्टर लगे हैं. लोगों का कहना है कि लापता युवक का चेहरा आपसे मिलता जुलता है. अब कहनेवाले तो कहते ही हैं - मैं तो नहीं मानता. अरे मैं क्या हमारे अपने परिवार में हैसियत किसकी है कि जो यकीन करने की हिम्मत दिखाए.

वैसे पोस्टर तो एक और भी लगा है - लेकिन वो किसी संन्यासिन का बताया जा रहा है. अब संन्यासियों का कोई ठिकाना तो वैसे भी नहीं होता. कहने को तो कैटरीना कैफ के भी गायब होने की खबर आई थी. ट्विटर पर लोग उनकी गुमशुदगी की बात सुन कर खासे चिंतित लग रहे थे. कई लोग उस दौरान आपको भी याद कर रहे थे. ये बात भी आपको पता नहीं होगी क्योंकि आप ट्विटर पर तो हैं नहीं. आप शशि थरूर जी से पूछिएगा. वो आपको डिटेल में बता पाएंगे.

अब आगे बताना ये है कि मुझे कागज मिला है. अप्रैल में पेशी है. एहतियातन हमने बड़े दरबार में अर्जी भी लगा दी है. आप तो जानते ही हैं मैं हमेशा डरता था. आपको याद होगा मैं हर दम आपके लिए कुर्सी खाली करने को तैयार बैठा रहता था. आपने कागज फाड़ के फेंक दिया तब भी मैंने चूं तक न किया. इस वक्त मैं आपको बहुत मिस कर रहा हूं. आप मुझे अपना राजनीतिक गुरु तक बताते रहे हैं, लेकिन मैं इस मुगालते में कभी नहीं रहा.

आपको बता दें कि मैडम आईं थीं. मैडम ने बहुत हौसला अफजाई की. कहा - घबराने की कोई जरूरत नहीं. कागज तो मिलते रहते हैं. ये पहले पहल मिला है, न जाने अभी कितने रास्ते में होंगे. हमें अपनी न्याय व्यवस्था पर यकीन रखना चाहिए. मैडम ने तो यहां तक कहा कि यकीन मानिये, हमारे यहां इंसाफ में देर है अंधेर नहीं है - और 10-20 साल तक तो सोचने तक की भी जरूरत नहीं है.

वैसे बड़ी हिम्मत मिली. मैडम सौ से भी ज्यादा लोगों को साथ लिए मार्च करते हुए आई थीं. हमे तो बिलकुल दांडी मार्च की याद आ गई. तारीख भी 12 मार्च ही थी. हम तो घर में भी यही बात कर रहे थे. मैं तो हमेशा ही कहता रहता हूं. मैडम कोई भी मौका यूं ही जाने नहीं देतीं. मैडम ने उसके बाद फिर मार्च निकाला. ये पहला मौका था जब सारे गैर-सरकारी संगठन सड़क पर, कहने का मतलब सड़क पर एक साथ नजर आए. लेकिन अब तो मार्च का महीना भी बीतने जा रहा है.

इसीलिए आपसे सेवामें सविनय निवेदन है कि कृपा करके मार्च खत्म होने से पहले लौट आइए. आप तो जानते ही हैं - आखिर अप्रैल में मार्च कैसे निकल सकेगा? अप्रैल में तारीख जो है.

आपका

मनमोहन
[अब नीचे लिखने को कुछ रहा नहीं]

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें