scorecardresearch
 

व्यंग्य: मौसम ही नहीं, और भी हैं जिनका भरोसा नहीं

मार्च-अप्रैल में बाढ़, अब मौसम को यूं ही मत कोसिए. मौसम के बारे में बताने के लिए तो एक अच्छा खासा विभाग भी है जो अब कम से कम [बीतीं बातों को तो भूल ही जाना बेहतर होता है सामान्य कपड़े पहनें या गर्म इतना तो बता ही देता है.

X
श्रीनगर बाढ़ श्रीनगर बाढ़

मार्च-अप्रैल में बाढ़ . अब मौसम को यूं ही मत कोसिए. मौसम के बारे में बताने के लिए तो एक अच्छा खासा विभाग भी है जो अब कम से कम [बीतीं बातों को तो भूल ही जाना बेहतर होता है सामान्य कपड़े पहनें या गर्म इतना तो बता ही देता है. उन लोगों का क्या , जिनके बारे में कुछ कहना मुश्किल है.

अरविंद केजरीवाल : कब क्या कर बैठें?
हो सकता है अरविंद केजरीवाल एक दिन सोकर उठें और दिल्ली सचिवालय के बजाए सीधे जंतर मंतर पहुंच जाएं - और जोर जोर से भाषण देने लगें: 'साथियों, विधानसभा में सारे नौसीखिए, अवसरवादी, फर्जी डिग्रीवाले और आलाकमान के चापलूस भरे पड़े हैं. दिल्ली के सीएम को तो समझ में ही नहीं आ रहा है कि हो क्या रहा है? अरे जो आदमी अपनों का नहीं हुआ - वो दिल्लीवालों का क्या होगा?'

आप : कब कौन बाहर हो जाए?
आम आदमी पार्टी ने तो कमाल ही कर दिया. जिस लोकपाल की रिपोर्ट के नाम पर दिल्ली चुनावों में उम्मीदवारों के टिकट बदल दिए गए, आप ने उसी को बाहर का रास्ता दिखा दिया. इससे पहले मिसाल के तौर पर बस एक नाम जबान पर आता था - एपल वाले स्टीव जॉब्स का, जिन्हें उसी कंपनी ने बाहर कर दिया जिसके वो फाउंडर थे. एडमिरल रामदास के अलावा आप ने योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण को भी हटा दिया है. पार्टी में जिस तरह से एक खास गुट हावी है, कहीं ऐसा न हो एक दिन केजरीवाल को ही बाहर का रास्ता दिखा दे.

साध्वी प्राची : कब क्या समझाने लगें?
हो सकता है किसी दिन किसी सार्वजनिक सभा में साध्वी प्राची केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की तारीफ में कसीदे पढ़ रही हों और बताएं कि जल्द ही काला धन आने वाला है. अब एक बार धन आ गया तो उसके फायदे ही फायदे हैं. मुमकिन है साध्वी के ही श्रीमुख से कुछ ऐसा सुनने को मिले, 'काला धन एक बार आ जाए फिर तो मंगल पर आना-जाना भी आसान हो जाएगा. विदेशों में इतना काला धन है कि अगर देश के लोग उसे देश के किसी बैंक में डाल दें तो उसके ब्याज से साल में कम से कम चार बार मंगल की यात्रा कर सकते हैं. इस यात्रा को आप ऐसे ही समझ लें जैसे आप अहमदाबाद से मुंबई बुलेट ट्रेन से जा रहे हों - और उतने ही किराये में मंगल तक घूम आएं.'

नरेंद्र मोदी : जाने कब विदेश यात्रा पर चले जाएं?
पाकिस्तान दिवस के मौके पर उच्चायोग की तरफ से सरकार को भी न्योता था. तभी सिंगापुर के पहले प्रधानमंत्री के निधन की खबर आ गई. पाक उच्चायोग जाने की जहमत से बचने के लिए विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने खुद सिंगापुर चले जाने का प्रस्ताव रखा. इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बताया कि सुषमा स्वराज जी ने पहले ही इसके लिए कार्यक्रम बना रखा है. सुनकर सुषमा जी को भी दोहरी खुशी हुई. एक तो पाक उच्चायोग नहीं जाना पड़ेगा, और दूसरा - भला मोदी जी को याद तो रहा कि विदेश मंत्रालय का कामकाज उनके जिम्मे है. लेकिन सुषमा जी ज्यादा देर तक खुश नहीं रह पाईं. अभी श्रद्धांजलि वाले कार्यक्रम में जाने ही वाली थीं कि अचानक मोदी जी को सामने आते देखा. आखिर करतीं भी क्या, सुषमा जी लौट आईं.

मार्कंडेय काटजू : कब क्या कह दें?
कवि चाहे कितना ही बड़ा क्यों न हो जाए, हर नई कविता के बाद वो सुनाने को लेकर बेचैन रहता है. उसी तरह कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्हें स्टडी टेबल से उठने के बाद उसे सुनाने की भी आदत होती है. अपने काटजू साहब भी खूब पढ़ते हैं - और फिर उन्हें सुनाने का मन करता है. फिर क्या, ब्लॉग आखिर होता किसलिए है? संभव है भूले भटके किसी दिन आप उनके ब्लॉग पर जाएं और पढ़ें : 'महाराष्ट्र और हरियाणा में बीफ पर बैन लगा दिया गया है. ऋषि कपूर ने इस पर अलग राय दी है. इस मुद्दे पर मेरी भी खास निजी राय है, लेकिन अभी मैं इसे सार्वजनिक नहीं करूंगा. इसके लिए मैं किसी भी सार्वजनिक मंच पर बहस करने को तैयार हूं. मेरी एक ही शर्त है पैनल में देवेंद्र फणनवीस, मनोहरलाल खट्टर, अरविंद केजरीवाल और नितिन गडकरी होने चाहिए.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें