scorecardresearch
 

क्राइम ब्रांच की रिमांड से तिहाड़ जेल भेजे गए बुकी संजीव चावला

प्रत्यर्पण संधि के तहत चावला को लंदन से भारत लाया गया है. दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने उसके खिलाफ 2013 में चार्जशीट फाइल की थी. 2000 में मैच फिक्सिंग का मामला सामने आया था, जिसमें पुलिस ने कुल 6 आरोपी बनाए थे.

गुरुवार को कोर्ट ने चावला को 12 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा था (चावला की फाइल फोटो) गुरुवार को कोर्ट ने चावला को 12 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा था (चावला की फाइल फोटो)

  • चावला को लंदन से भारत लाया गया है
  • इस मामले में बुधवार को अगली सुनवाई

मैच फिक्सिंग के आरोपी बुकी संजीव चावला को दिल्ली हाईकोर्ट ने क्राइम ब्रांच की रिमांड से तिहाड़ जेल भेजने का आदेश दिया है. इस मामले में केंद्र को नोटिस जारी किया गया है और बुधवार को अगली सुनवाई होगी.

पटियाला हाउस कोर्ट ने गुरुवार को चावला को 12 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा था. इसके खिलाफ चावला ने दिल्ली हाईकोर्ट में चुनौती देते हुए कहा था कि उसे ब्रिटेन से भारत ट्रायल फेस करने के लिए बुलाया गया था, न कि इंवेस्टिगेशन के लिए. भारत सरकार ने आश्वासन दिया था कि उन्हें तिहाड़ जेल में रखा जाएगा.

प्रत्यर्पण संधि के तहत चावला को लंदन से भारत लाया गया है. दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने उसके खिलाफ 2013 में चार्जशीट फाइल की थी. 2000 में मैच फिक्सिंग का मामला सामने आया था, जिसमें पुलिस ने कुल 6 आरोपी बनाए थे. संजीव चावला के प्रत्यर्पण को लेकर दिल्ली पुलिस ने की टीम लंदन में तमाम औपचारिकताएं पूरी की थी. चिकित्सा जांच के बाद संजीव चावला को अदालत में पेश किया गया.

ये भी पढ़ें: दिल्ली पुलिस से संजीव चावला से पूछताछ करने की मांग करेंगे: BCCI एसीयू प्रमुख

क्या है मामला

दरअसल, वर्ष 2000 में 16 फरवरी और 20 मार्च को खेले गए भारत-दक्षिण अफ्रीका मैच फिक्सिंग के आरोप में दिल्ली पुलिस ने साउथ अफ्रीकी टीम के कैप्टन रह चुके दिवंगत हैंसी क्रोनिए और पांच अन्य के खिलाफ चार्जशीट दायर की थी. साउथ अफ्रीका के खिलाड़ी हर्शल गिब्स और निकी बोए के फिक्सिंग से जुड़े होने के पर्याप्त सबूत न मिलने पर उनका नाम चार्जशीट से हटा दिया गया था. इस संबंध में 2013 में दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट दायर की थी. इसमें हैंसी क्रोनिए, सट्टेबाज संजीव चावला, मनमोहन खट्टर, दिल्ली के राजेश कालरा और सुनील दारा सहित टी सीरीज के मालिक के भाई कृष्ण कुमार को आरोपित बनाया गया था. इसके बाद से पुलिस संजीव को भारत लाने का प्रयास कर रही थी.

ये भी पढ़ें: Valentine's Day पर 124 साल पहले इंग्लैंड ने प्यार नहीं, बरपाया था कहर

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें