scorecardresearch
 

मोस्ट वांटेड दाऊद इब्राहिम के सवाल पर बोले राजनाथ, थोड़ी प्रतीक्षा कीजिए

X
Dawood Ibrahim Dawood Ibrahim

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान से मोस्ट वांटेड दाऊद इब्राहिम को भारत के हवाले करने की मांग की है. दाउद के कराची में होने के बारे में 'आज तक' पर सुनाए गए टेप के बारे में सवाल पूछे जाने पर राजनाथ ने कहा कि दाउद मोस्ट वांटेड अपराधियों में शामिल है. हम पाकिस्तान से पहले ही मांग कर चुके हैं कि वह दाउद को हमारे हवाले कर दे.. थोड़ी प्रतीक्षा कीजिए.'  इससे पहले केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू भी पाकिस्तान से दाऊद को भारत को सौंपने की मांग कर चुके हैं. उन्होंने शनिवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि दाऊद के ताजा टेप से इस बात के पुख्ता प्रमाण मिलते हैं कि मुंबई बम धमाकों का मास्टरमाइंड दाऊद पाकिस्तान के कराची में ही रह रहा है. गौरतलब है कि  हाल में 'अाज तक' ने दाऊद का एक टेप सुनाया है, जिसमें वह अपना पता-ठिकाना भी बता रहा है. 

खुद को पीएम के बराबर मानता है कि दाऊद

दाऊद इब्राहिम को पकड़ने के लिए भारतीय खुफिया एजेंसियां सालों से दिन-रात एक कर रही हैं, वही दाऊद खुद को प्रधानमंत्री के बराबर ताकतवर मानता है. 'आज तक' चैनल के हाथ लगे टेप में दाऊद कह रहा है कि वह पाकिस्तान के कराची शहर में रह रहा है. वह खुद को ही अदालत, वकील, जज सब मानता है और सिर्फ मानता ही नहीं बल्कि इसी अंदाज में वो अपने दुश्मनों को धमकी भी देता है.

टेप में दाऊद कह रहा है, ‘मेरे लोग मेरी आंखें और कान हैं, इसलिए मुझे बैठे-बैठे दुनिया की खबर मिल जाती है. प्रधानमंत्री खुद गलियों में नहीं घूमते. मेरे लफ्ज दस्तावेज हैं. दस्तावेज फाड़े जा सकते हैं, पर मेरा हुक्म नहीं.’

व्हाइट हाउस में रहता है दाऊद

पाकिस्तान की सेना और खुफिया एजेंसी आईएसआई की निगरानी में दाऊद इब्राहिम कराची के क्लिफ्टन इलाके के व्हाइट हाउस नाम की बिल्डिंग में आराम से रहता है. इसी घर से जब वो दुबई में अरबों रुपए की प्रॉपर्टी की डील कर रहा था तो खुफिया एजेंसियों ने दाऊद की लाइव बातचीत टेप कर ली.

यासिर ने किया दाऊद को गुमराह

खुफिया एजेंसियों के मुताबिक करीब 1100 करोड़ रुपए की डील में पाकिस्तान के रसूखदार बिजनेसमैन के लड़के यासिर ने दाऊद इब्राहिम को गुमराह किया था. दाऊद उसी यासिर को इस फोन कॉल में धमकाता हुआ सुनाई दे रहा है. टेप में डॉन यासिर से कह रहा है कि ‘अगर डी कंपनी के साथ चालाकी की तो वह उसे बख्शेगा नहीं.’

दाऊद इब्राहिम ने पहली बार फोन पर ये भी कबूल किया कि वह कराची के घर में बैठकर ही दुनिया भर की डील करता आया है. दाऊद की बातों से साफ है कि पाकिस्तान में 20 साल में उस पर सरकारी मेहरबानी ऐसी रही कि वो खुद को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के बराबर ताकतवर मानने लगा है.

दो दशक से दाऊद की तलाश

दाऊद को भारतीय पुलिस पिछले दो दशक से तलाश कर रही है. इस दौरान सरकार ने ऐसे ना जाने कितने सबूत इकट्ठा किए, जिससे साफ हो गया कि दाऊद पाकिस्तान में है. लेकिन पाकिस्तानी सरकार हर बार इसे झुठलाती रही. लेकिन फोन पर बातचीत के दौरान खुद दाऊद ने स्वीकार किया कि वह कराची के क्लिफ्टन रोड के घर में रहता है.

दाऊद को भारत सरकार बीते दो दशक से ढूंढ़ रही है. वह मुंबई में हुए 1993 के बम धमाकों का गुनहगार है, लेकिन तब से वह पाकिस्तान में छिपा है. फोन पर होने वाली बातचीत से साफ है कि रियल एस्टेट और प्रॉपर्टी के धंधे में भी डी कंपनी की दादागीरी है. दुबई ही नहीं बल्कि पाकिस्तान में भी दाऊद की बेशुमार बेनाम संपत्ति है और इनमें से ज्यादातर संपत्ति उसने अपने तरीके से हासिल की है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें