scorecardresearch
 

राहुल गांधी का अटैक- नोटबंदी और GST अर्थव्यवस्था को ध्वस्त करने वाले टॉरपीडो

बैठक शुरू हो गई है. इसमें गुलाम नबी आजाद, मोतीलाल वोरा समेत कई बड़े कांग्रेस नेता शामिल हैं. बैठक में नोटबंदी की सालगिरह पर किस तरह मोदी सरकार को घेरा जाए इस पर रणनीति बनेगी.

X
राहुल गांधी-मनमोहन सिंह (फाइल)
राहुल गांधी-मनमोहन सिंह (फाइल)

गुजरात और हिमाचल प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस की कोशिश मोदी सरकार को जीएसटी और नोटबंदी के मुद्दे पर घेरने की है. कांग्रेस मुख्यालय में हुई इस बैठक में नोटबंदी और जीएसटी पर सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस की रणनीति पर वरिष्ठ नेताओं के साथ चर्चा हुई.

इस बैठक के बाद राहुल गांधी ने संवाददाताओं से कहा, '8 नवंबर देश के लिए बेहद बुरा दिन था. मुझे नहीं पता कि सरकार कैसे नोटबंदी का जश्न मना सकती है. नोटबंदी एक त्रासदी जैसी थी. मुझे लगता है कि पीएम मोदी को अभी तक आम जन की तकलीफों का ऐहसास नहीं हुआ. मानो देश को हुई तकलीफ का पीएम मोदी को पता ही नहीं.' 

वहीं GST पर कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा, उन्हें एक अच्छे आइडिया को बेहद खराब ढंग से लागू किया. इससे पूरे देश को नुकसान उठाना पड़ रहा है. पंजाब के हमारे वित्त मंत्री ने जीएसटी पर एक विस्तृत प्रेजेंटेशन दिया और बताया कि एक अच्छे आइडिया को कितनी खराब ढंग से लागू किया. उन्होंने कहा, नोटबंदी के टॉरपीडो के बाद जीएसटी दूसरा टॉरपीडो था, जिसने भारत की अर्थव्यवस्था को ध्वस्त कर दिया.

बता दें कि कांग्रेस मुख्यालय में हुई इस बैठक में गुलाम नबी आजाद, मोतीलाल वोरा समेत कई बड़े कांग्रेस नेता शामिल हुए, जहां नोटबंदी के एक साल पूरे होने के मौके पर किस तरह मोदी सरकार को घेरा जाए इस पर रणनीति बनेगी.

इस बैठक के अलावा जीएसटी पर भी बैठक भी होगी. इस बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम, जयराम रमेश और राहुल गांधी मौजूद होंगे.

गौरतलब है कि आने वाली 8 नवंबर को नोटबंदी को एक साल हो जाएगा. नोटबंदी के कारण जनता को हुई असुविधा को मुद्दा बना कांग्रेस देशभर में प्रदर्शन कर अपनी शक्ति दिखाना चाहती है. कांग्रेस का प्लान देशभर में 8 नवंबर को जोरदार प्रदर्शन करने का है.

'मोदी मेड डिजास्टर' नारे से होगा हमला

राहुल गांधी नोटबंदी और जीएसटी को लेकर मोदी सरकार पर हमलावर रहे हैं. हाल ही में उन्होंने ट्वीट कर निशाना भी साधा था. राहुल ने ट्वीट किया कि, ''पिछले तीन साल से लोगों के वेतन में खास बढ़ोतरी हुई है और वहीं बैक पिछले 60 साल के इतिहास में सबसे कम कर्ज देने की ताकत रख रहे हैं. मोदी जी के शब्दों में कहे तो यह  मोदी मेड डिजास्टर (MMD) है.''

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें