scorecardresearch
 

मोदी के किस्सों ने विरोधियों को कहीं का न छोड़ा!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार शाम चार बजे राष्‍ट्रपति प्रणव मुखर्जी के अभिभाषण पर चर्चा का जवाब देते हुए दो दिनों से मोर्चा खोले विपक्षियों को चारों खाने चित कर दिया.

नरेंद्र मोदी नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार शाम चार बजे राष्‍ट्रपति प्रणव मुखर्जी के अभिभाषण पर चर्चा का जवाब देते हुए दो दिनों से मोर्चा खोले विपक्षियों को चारों खाने चित कर दिया.

मोदी ने यह बता दिया कि माननीय राष्‍ट्रपति जी ने जो भी बातें कहीं हैं वो उनके लिए पवित्र बंधन है और उसे वो और उनकी टीम पूरा करके ही रहेगी. वादे पूरे होने पर विरोधियों के संशय पर विराम लगाते हुए मोदी ने बड़े ही शालीन तरीके से जवाब देते हुए संसद में एक वाकया सुनाया. उन्‍होंने कहा कि जब मैं नया नया गुजरात का मुख्‍यमंत्री बनकर गुजरात विधानसभा पहुंचा तो सदन में मैंने कहा कि मैं प्रदेश के गांवों में 24 घंटे बिजली पहुंचाना चाहता हूं. मेरी इस बात पर कई को आश्‍चर्य हुआ. बाद में विपक्ष के नेता और पूर्व मुख्‍यमंत्री चौधरी अमर सिंह मुझसे मिलने आए. बोले मोदी जी, कहीं चूक तो नहीं हो रही. आप नए हो. 24 घंटे बिजली कैसे दोगे. उन्होंने मित्र भाव से चिंता जाहिर की. मैंने कहा. ये मेरा विचार है, हम करेंगे. वह बोले कैसे करोगे. उनके मन में यह विचार आना स्वाभाविक था. अब मुझे इस बात का आनंद है कि ऐसा गुजरात में हो गया है.

कांग्रेस के इस सवाल पर कि हमारी चीजों को मोदी चुराकर नए तरीके से पैककर बेच रहे हैं, नई बोतल में पुरानी शराब....आदि के जवाब में मोदी ने कहा कि दुर्योधन को भी सब पता था लेकिन वो कुछ नहीं कर पाया. दुर्योधन से पूछा गया कि उसे धर्म-अधर्म की समझ है या नहीं. तो उसने कहा कि मैं धर्म को जानता हूं, पर मेरी प्रवृत्ति नहीं. सत्य क्या है, अच्छा क्या है, मुझे मालूम है. लेकिन वो मेरे डीएनए में नहीं है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें