scorecardresearch
 

भारत रत्न पाने वाले पहले खिलाड़ी बने सचिन तेंदुलकर, प्रोफेसर राव को भी सर्वोच्च नागरिक सम्मान

सचिन तेंदुलकर आज 'भारत रत्न सचिन तेंदुलकर' हो गए. राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने उन्हें और प्रोफेसर सीएनआर राव को मंगलवार को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान दिया.  इसी के साथ सचिन को भारत रत्न बनते देखने की उनके फैन्स की इच्छा पूरी हो गई.

भारत रत्न से सम्मानित हुए सचिन तेंदुलकर भारत रत्न से सम्मानित हुए सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर आज 'भारत रत्‍न सचिन तेंदुलकर' हो गए. राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने सचिन और प्रोफेसर सीएनआर राव को मंगलवार को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान दिया. इसी के साथ सचिन को भारत रत्न से सम्मानित होते देखने की उनके फैन्स की इच्छा पूरी हो गई.

सम्‍मान ग्रहण करने के बाद सचिन ने राष्‍ट्रपति भवन के बाहर पत्रकारों से बातचीत की. उन्होंने कहा, 'यह सम्‍मान मेरी मां के साथ साथ उन सभी माताओं को समर्पित है जिन्‍होंने अपने बच्‍चों के लिए दुआ की और उनके बच्‍चों के सपने सच हुए. मुझे इस देश में पैदा होने पर बेहद गर्व है. मैं अपने तमाम देशवासियों का शुक्रिया अदा करता हूं जिन्‍होंने वर्षों तक मुझे प्‍यार दिया और मेरे लिए दुआ की. मैं भारत रत्‍न सम्‍मान के लिए प्रोफेसर सीएनआर राव को बधाई देना चाहता हूं जिन्‍हें भारत रत्‍न मिला है. प्रो. राव की प्रेरणा से देश के युवाओं के भीतर वैज्ञानिक बनने की प्रेरणा मिली. मैं उनके सुखद जीवन की कामना करता हूं. हालांकि मैं रिटायर हो चुका है लेकिन मैं भारत के बल्‍लेबाजी करता रहूंगा.' इतना कहने के बाद सचिन ने अपनी बात खत्‍म की. तभी एक पत्रकारों ने ध्‍यानचंद के बारे में सचिन से सवाल किए, 'सचिन जी ध्‍यानचंद पर कुछ बोलिए...', लेकिन सचिन इस सवाल को टालकर वहां से चले गए.

सचिन के साथ EXCLUSIVE बातचीत देखने के लिए यहां क्लिक करें

राष्ट्रपति भवन में हुए समारोह में सचिन की पत्नी अंजलि और बेटी सारा भी मौजूद थीं. राष्ट्रपति की अनुमति से सम्मान समारोह हिंदी में आयोजित किया गया. पहले प्रोफेसर सीएनआर राव को और फिर सचिन को यह सम्मान दिया गया. इस मौके पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, प्रधानमंत्री की पत्नी गुरशरण कौर, रक्षा मंत्री एके एंटनी, गुलाम नबी आजाद और मीरा कुमार समेत कई नेता मौजूद थे.

क्रिकेट की पिच पर रिकॉर्डों की झड़ी लगाने वाले सचिन ने भारत रत्न लेते हुए भी कुछ रिकॉर्ड बनाए. देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान लेने वाले वह सबसे कम उम्र के शख्स और एकमात्र खिलाड़ी बन गए हैं.

सचिन ने पिछले साल 16 नवंबर को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था. इसके तुरंत बाद उन्हें भारत रत्न देने का ऐलान कर दिया गया था.


                            भारत रत्न से सम्मानित हुए प्रोफेसर सीएनआर राव

40 साल के सचिन तेंदुलकर और 79 साल के सीएनआर राव को देश का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण भी मिल चुका है. इस तरह वे भारत रत्‍न से सम्मानित 41 लोगों की सूची में शामिल हो गए.

एक अधिकारिक बयान के अनुसार तेंदुलकर विश्व खेलों में देश के सच्चे एम्बेसडर हैं और क्रिकेट में उनकी उपलब्धियां अद्भुत हैं, उनके द्वारा हासिल किए रिकॉर्ड्स की बराबरी नहीं की जा सकती है और उनकी खेल भावना शानदार है. इसके मुताबिक, ‘उन्हें इतने सारे पुरस्कारों से सम्मानित किया जाना, खिलाड़ी के तौर पर उनकी अद्भुत प्रतिभा का सबूत है.’

तेंदुलकर ने 16 साल की उम्र से क्रिकेट खेलना शुरू किया और अपने रिकॉर्डों से भरे शानदार प्रदर्शन से पिछले 24 साल में पूरी दुनिया में देश को गौरवान्वित किया. तेंदुलकर को भारत रत्‍न से नवाजे जाने की मांग लंबे समय से की जा रही थी और खिलाड़ियों को इससे सम्मानित किए जाने के लिए पिछले साल ही भारत रत्‍न के पात्रता के मानदंड में संशोधन किया गया था.

तेंदुलकर पिछले साल राज्यसभा के सदस्य बनने वाले पहले सक्रिय खिलाड़ी बने थे. भारत रत्‍न से नवाजे जाने वाले व्यक्ति को राष्ट्रपति द्वारा हस्ताक्षर की हुई सनद (प्रमाण पत्र) और एक पदक दिया जाता है. इसमें कोई धन राशि नहीं होती.

देखें वीडियो
दुर्लभ बल्‍लेबाज हैं सचिन: डेविड कैमरून
सचिन तेंदुलकर का साल 1990 का इंटरव्यू
सचिन की महानता, 10 कप्तानों की जुबानी
सचिन तेंदुलकर की हर याद जैसे कल की ही बात है
...काश ये लम्‍हा यहीं रुक जाता

पढ़ें खबरें
'खुदा का पैगंबर है सचिन, उसने खेलना सिखाया'

क्या ब्रैडमैन से बेहतर हैं सचिन तेंदुलकर? जानें क्‍या सोचते हैं क्रिकेट के दिग्‍गज

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें