scorecardresearch
 

आज जवानों के बीच PM मोदी, भारत-चीन बॉर्डर पर मनाएंगे दिवाली

पीएम मोदी इस बार देश के जवानों के साथ दिवाली मनाएंगे. पीएम उत्तराखंड के हर्षिल बॉर्डर पर जवानों के साथ दिवाली मनाएंगे. हर्षिल उत्तरकाशी सीमा पर फॉरवर्ड पोस्ट है. जो भारत-चीन सीमा से 45 किलोमीटर की दूरी पर है.

X
पीएम मोदी (फाइल फोटो)
पीएम मोदी (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर बार की तरह इस बार भी अपने अंदाज में दिवाली मनाएंगे. 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी पिछली चार दिवाली सरहद पर देश के जवानों के साथ मनाए हैं. पीएम मोदी इस बार उत्तराखंड के हर्षिल बॉर्डर पर जवानों के साथ दिवाली मनाएंगे. बता दें कि हर्षिल उत्तरकाशी सीमा पर फॉरवर्ड पोस्ट है. जो भारत-चीन सीमा से 45 किलोमीटर की दूरी पर है. प्रधानमंत्री के साथ सेना प्रमुख बिपिन रावत और सेना के अन्य अधिकारी भी मौजूद रहेंगे.

इसके अलावा पीएम मोदी बाबा केदारनाथ के दर्शन भी करेंगे. इसके लिए पीएम देहरादून पहुंच चुके हैं. थोड़ी देर में वे केदारनाथ के दर्शन करेंगे. पीएम मोदी केदारधाम में 2 घंटे बिताएंगे. पीएम मोदी केदार धाम में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों का भी जायजा लेंगे. निकाय चुनाव की आचार संहिता लागू होने के चलते केदारधाम में पीएम  शिलान्यास और उद्घाटन नहीं कर पाएंगे.

प्रधानमंत्री बनने के बाद जवानों के साथ मनाई दिवाली

नरेंद्र मोदी जब से पीएम बने हैं, वह ऐसे ही जवानों के बीच दिवाली मनाते रहे हैं. 2017 की दिवाली में पीएम मोदी सीधे पाकिस्तान बॉर्डर यानी नियंत्रण रेखा (LoC) पर पहुंच गए. पीएम मोदी ने यहां जम्मू-कश्मीर के गुरेज सेक्टर में सीमा के नजदीक जाकर बीएसएफ जवानों के साथ दिवाली का पर्व मनाया.

इस दौरान पीएम मोदी ने जहां जवानों के शौर्य को सलाम किया, वहीं ये भी कहा कि सभी की तरह वह भी परिवार के साथ दिवाली मनाने की चाहत रखते हैं और सभी जवान उनके परिवार की तरह हैं.

वहीं 2016 की दिवाली भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय सैनिकों के साथ मनाई. इस दौरान वो हिमाचल प्रदेश में चीन की सीमा के पास रणनीतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण इलाके में सैनिकों के बीच पहुंचे थे. साथ ही पीएम बिना किसी पूर्व कार्यक्रम चांगो नाम के एक गांव में भी गए और कहा कि लोगों के आतिथ्य सत्कार और उनकी खुशी ने उन्हें अभिभूत कर दिया. इसके अलावा पीएम मोदी ने यहां सुमोध नाम की जगह पर इंडो-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी), डोगरा स्काउट्स और सेना के जवानों से मुलाकात की.

प्रधानमंत्री कार्यकाल के दूसरी दिवाली के अवसर नरेंद्र मोदी अमृतसर स्थित डोगराई युद्ध स्मारक पहुंचे, जो सबसे कठिन युद्ध स्थल के रूप में जाना जाता है. इस जगह भारतीय सैनिकों ने 22 सितंबर, 1965 को जीत प्राप्त की थी. पीएम मोदी ने यहां जवानों के साथ दिवाली का पर्व मनाया और सैनिकों से कहा कि लोग अपने परिवार के सदस्यों और प्रियजनों के साथ दिवाली मनाते हैं, मैं भी आपके साथ दिवाली मनाने आया हूं.

मई 2014 में केंद्र की गद्दी संभालने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ महीनों बाद ही अक्टूबर में दिवाली मनाने सियाचिन पहुंच गए. यहां उन्होंने जवानों के साथ पर्व मनाया और उनके बीच मिठाइयां भी बांटी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें